blogid : 7629 postid : 1335591

मौत से पहले यमराज हर मनुष्य को भेजते हैं ये 4 संदेश

Posted On: 17 Jun, 2017 Infotainment में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

सृष्टि के कुछ नियम ऐसे होते हैं, जिसे हर किसी को मानना पड़ता है. अगर आप जन्म लेते हैं तो आपकी मृत्यु भी निश्चित ही होगी लेकिन अक्सर हम अपनी जिंदगी में इतना खो जाते है कि हम यह भी भूल जाते हैं कि मौत को भी हमारे दरवाजे पर एक दिन दस्तक देनी है. हम भले ही इस बात को मजाक में लें या ना मानें लेकिन ये बात सच है कि यमराज हर इंसान को 4 संदेश भेजते हैं, जो हमें यह अहसास दिलाते हैं कि अब हमारा वक्त पूरा हो चुका है.


cover yamraj


यमराज क्यों भेजते हैं संदेश

सदियों पहले यमराज के एक भक्त अमृत ने कड़ी तपस्या की ताकि उस यमराज के दर्शन हो जाए. आखिरकार यम ने जब उसे दर्शन दिए तो उसने यम से अमर रहने का वरदान मांग लिया. उसे यह वरदान तो नहीं मिला लेकिन यमराज ने एक वचन दिया कि जब भी अमृत की मौत आएगी वह उस सूचित कर देगें ताकि वह अपनी अधूरी इच्छाएं पूरी कर सके. इसलिए तब से लेकर आज तक हर मनुष्य को यमराज कुछ संदेश भेजते है ताकि हमें अपनी मौत का एहसास हो जाए.


yamraj_14


क्या हैं मौत के संकेत

1. बाल सफेद होना

जब हम हमारी उम्र होने लगती है उसक बाद हमारे शरीर में कई तरह के बदलाव होते हैं, जिसमें से मुख्य होता है सफेद होते बालों का होना. दरअसल, इसे पहला संदेश माना जाता है क‌ि अब उम्र बढ़ रही है मोह की दुन‌िया से बाहर न‌िकलना शुरु करो.


yamraj cover


2. दांतो का गिरना

दूसरा संदेश जब उम्र और बढ़ने लगती है इस समय व्यक्‍त‌ि के दांत ग‌िरने लगते हैं. वह कुछ भी खाने में असमर्थ होता है. दांत का ग‌िरना यह बताता है क‌ि व्यक्त‌ि का शरीर कह रहा है मुझे मुक्त‌ि की जरुरत है.

yamaraj-


3. शरीर के अंग कमजोर पड़ने लगते हैं

तीसरा संदेश है व्यक्त‌ि की ज्ञानेन्द्र‌िय कमजोर पड़ जाना, व्यक्त‌ि की सुनने और देखने की क्षमता कम हो जाती है. इस समय यमराज कहते हैं अब दुन‌िया की बातें सुनना छोड़कर आत्मच‌िंतन और मनन करो ताक‌ि मुक्त‌ि में परेशानी नहीं आए.


yamaraj-1


4. कमर से लाचार हो जाता है इसांन

चौथा संदेश होता व्यक्त‌ि की कमर झुक जाती है, शरीर अपना बोझ उठाने में असमर्थ हो जाता है और उसे सहारे की जरुरत पड़ जाती है. यमराज समझाते हैं क‌ि बाहरी सहारा लेने की बजाय अब ईश्वर का सहारा लो, वही तुम्हें कर्मों के फल से उत्तम लोक में स्‍थान द‌िला सकते हैNext


Read more:

महाभारत के ये योद्धा पूर्वजन्म में थे यमराज, इस कारण से ऋषि ने दिया था श्राप

इस भय से श्रीराम के प्राण नहीं ले सकते थे यमराज इसलिए वैकुंठ गमन के लिए अपनाया ये मार्ग

इस श्राप के कारण जब यमराज को भी बनना पड़ा मनुष्य



Tags:                     

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran