blogid : 7629 postid : 1327167

सड़कों पर पेन बेचते हुए इस आदमी की तस्वीर हुई थी वायरल, आज हैं एक रेस्टोरेंट के मालिक

Posted On: 29 Apr, 2017 Infotainment में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

सीरिया में हो रहे गृह युद्ध के चलते कई लोग अपने शहर और अपने घर को छोड़कर दूसरे देशों में शरण लेने को मजबूर हो गए हैं. ऐसे में कई सारे ऐसे सीरियन रिफ्यूजी हैं, जो सड़कों पर रहने को मजबूर हैं या छोटे मोटे काम से अपना पेट भर रहे हैं. ऐसी ही एक कहानी है अब्दुल हलीम अल अत्तार की, जिन्हें भी गृह युद्ध के चलते अपना घर छोड़ना पड़ा, और लेबनान के शहर बेरुत में अपने बच्चे के साथ शरण लेने को मजबूर हुए.


Syrian cover


कहते हैं वक्त हमेशा एक सा नहीं होता जब दिन फिरते हैं, तो रंग भी राजा बन जाता है. ऐसा ही कछ हुआ है सीरियन रिफ्यूजी हलीम अल अत्तार के साथ, जो कुछ साल पहले अपनी बेटी को कंधों पर लेकर सड़कों पर पेन बेचता था ताकि उस पैसों से उसका घर चल जाए और उसे दो वक्त की रोटी मिल जाए. दिन भर में जितना पैसा मिलता उससे हलीम अल अत्तार अपना, बेटी और बेटे का पेट भरते थे. लेकिन सिर्फ एक फोटो के कारण अचानक उनकी जिंदगी बदल गई और अब वो न केवल व्यवसाय चलाते है बल्कि अपने जैसे 16 अन्य शरणार्थियों को भी रोज़गार के साथ बेहतर ज़िन्दगी दे रहे है.


syria-


अब्दुल हलीम की यह तस्वीर जिसमें वो गर्मी में अपनी सो रही बेटी को उठाये हुए हैं, और सड़क पर पैन बेच रहे हैं. यह तस्वीर दुनिया भर के लोगों का दिल छू गयी है. फोटो वायरल हुई तो नॉर्वे के एक ऑनलाइन जर्नलिस्ट गिसर सिमोनारसन ने ट्विटर पर @buy_pens के नाम से अकाउंट और indiegogo पर क्राउडफण्डिंग अपील की, उन्होंने 5000 डॉलर का लक्ष्य दिया लेकिन 3 महीने बाद जब अपील का समय पूरा हुआ तो पता चला 1 लाख 90 हज़ार डॉलर पूरी दुनिया से लोगों ने दान किया. भारतीय मुद्रा में बात करे तो यह तकरीबन 1 करोड़ 25 लाख बैठता है.


refugee


इंटरव्यू में अब्दुल ने कहा कि ‘जब मुझे पता चला कि मेरी तस्वीर को इंटरनेट पर शेयर किया जा रहा है, तो मैं आश्चर्यचकित रह गया. मैं जहां जाता लोग मुझे पैसे देकर मदद करते और हमें खाना भी देते थे.’ पहले उन्हें यकीन नहीं हुआ, लेकिन बात जब उन्हें समझ आया कि ये सब उनकी एक तस्वीर के जरिए हुआ तो वो हैरान रह गए.


syriaaa


ऑनलाइन जर्नलिस्ट गिसर सिमोनारसन ने सारे पैसे अब्दुल को दिए और अब्दुल ने इन पैसों से अपना एक रेस्टोरेंट खोला है. अब्दुल कहते हैं कि, ‘वो चाहते हैं कि इस तरह के कैम्पेन हर सीरियन रिफ्यूजी के लिए चलाए जाएं, मैं खुशकिस्मत हैं कि उनके पास रहने के लिए घर है. बहुत से लोग सड़कों पर रहने के लिए मजबूर हैं.’


 Syria Refugee

आज अब्दुल के पास किसी चीज़ की कमी नहीं है, लेकिन वो इस मदद का फ़ाएदा अकेले नहीं उठा रहे हैं. उनके रेस्टोरेंट में कई दूसरे सीरियन रिफ्यूजी काम करते हैं. अब्दुल ने कई लोगों के लिए रोज़गार पैदा किया है. अब्दुल उन सभी लोगों का शुक्रिया अदा करना चाहते हैं जिन्होंने उनकी मदद की…Next


Read More:

जब सीरियाई फोटोग्राफर ने बच्चों की जान बचाने के लिए छोड़ा कैमरा, फिर घुटने पर बैठकर रो पड़ा

5 सालों से चल रहा है यहां युद्ध, अब तक मर चुके हैं ढ़ाई लाख लोग

सीरिया में दहशत का आलम, बच्ची ने कैमरे को बंदूक समझ किया सरेंडर

जब सीरियाई फोटोग्राफर ने बच्चों की जान बचाने के लिए छोड़ा कैमरा, फिर घुटने पर बैठकर रो पड़ा
5 सालों से चल रहा है यहां युद्ध, अब तक मर चुके हैं ढ़ाई लाख लोग
सीरिया में दहशत का आलम, बच्ची ने कैमरे को बंदूक समझ किया सरेंडर



Tags:                                         

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran