blogid : 7629 postid : 1308223

सैनिकों को घायल होते देख 14 साल के बच्चे ने बना डाला ये हथियार, सरकार से किया 5 करोड़ का करार

Posted On: 22 Jan, 2017 Infotainment में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

‘मंजिल उन्हीं को मिलती है, जिनके सपनों में जान होती है, पंख से कुछ नहीं होता हौसलों से उड़ान होती है. ऐसा ही कुछ कर दिखाया है गुजरात में रहने वाले 14 साल के हर्षवर्धन जाला ने जिसने एक ड्रोन का डिजाइन किया है, जिसके प्रॉडक्शन के लिए उन्होंने सरकार के साथ 5 करोड रुपए के समझौते पर हस्ताक्षर किया, इतना ही नहीं हर्ष वर्धन इतनी कम उम्र में एयरोबोटिक्स नाम की कंपनी के मालिक हैं.


cover 02



10वीं के छात्र ने किया कमाल

10वीं कक्षा में पढ़ने वाले हर्षवर्धन गुजरात में हुए ग्लोबल समिट में हर्ष ने गुजरात सरकार के साथ 5 करोड़ का एमओयू साइन कर काफी सुर्खियां बटोरीं हैं. हर्ष ने गुजरात सरकार के विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग के साथ मिलकर ऐसे ड्रोन तैयार करने के लिए करार किया है, जिसकी मदद से युद्ध के मैदानों में लगे लैंड माइंस का पता लगाया जा सकेगा.


harshward




क्या है इस ड्रोन की खासियत

ये ड्रोन न सिर्फ लैंड माइंस का पता लगाएगा बल्कि उन्हें निष्क्रिय करने में भी सक्षम होगा. इन ड्रोन की खासियत है कि ये बारूदी सुरंगों की पहचान करने के बाद उन्हें नष्ट कर देने का भी माद्दा रखते हैं. इस ड्रोन में इंफ्रारेड, आरजीबी सेंसर, थर्मल मीटर, 21 मेगापिक्सल कैमरा और एक मैकेनिकल शटर भी मौजूद है, जिससे हाई क्वालिटी की तस्वीरें ली जा सकती हैं.


harshvardhan



सैनिकों के लिए बनाई ड्रोन

हर्षवर्धन ने बताया कि ‘एक दिन टीवी देखने के दौरान मैंने देखा कि कई सैनिक बारूदी सुरंगों को नष्ट करने या उन्हें डिफ्यूज़ करने के चक्कर में गंभीर रूप से घायल हो रहे थे. तभी मुझे लगा कि अगर किसी ऐसे ड्रोन पर काम किया जाए जो बारूदी सुरंगों की पहचान कर उन्हें अपने आप ही डिफ्यूज़ कर दे, तो जवानों की सहायता की जा सकती है’.


harshwardgan

50 ग्राम तक बम कर सकती है डिफ्यूज़

इन ड्रोन को कुछ इस तरह से डिज़ाइन किया गया है कि धरती से दो फीट ऊपर होने पर ये ड्रोन तरंगे छोड़ने लगता है, जो आसपास के क्षेत्र का 8 स्क्वायर मीटर हिस्सा कवर करती है. ये तरंगे बारूदी सुरंगों की पहचान कर नज़दीकी बेस स्टेशन को इसके बारे में ख़बर कर देती हैं. यही नहीं, इस ड्रोन में 50 ग्राम का एक बम भी रखा होता है, जो ज़रूरत पड़ने पर इन सुरंगों को नष्ट करने के भी काम आता है…Next


Read More:

इस 14 मंजिला इमारत में बसा है पूरा शहर- यहां पुलिस थाना, हॉस्पीटल और स्कूल भी

इनकी क्लास में पढ़ने के लिए स्टूडेंट देते हैं एंट्रेंस, दूर-दूर से आते हैं लोग

1973  से अबतक सोया नहीं है यह व्यक्ति, विज्ञान के लिए बना चुनौती

इस 14 मंजिला इमारत में बसा है पूरा शहर- यहां पुलिस थाना, हॉस्पीटल और स्कूल भी
इनकी क्लास में पढ़ने के लिए स्टूडेंट देते हैं एंट्रेंस, दूर-दूर से आते हैं लोग
1973  से अबतक सोया नहीं है यह व्यक्ति, विज्ञान के लिए बना चुनौती




Tags:                         

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran