blogid : 7629 postid : 1308394

फुटपाथ पर रहने वाले बच्चों का अखबार, 4 राज्यों तक फैला है नेटवर्क....ऐसा है इनका अनोखा काम

Posted On: 21 Jan, 2017 Infotainment में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

झुग्गी – झोपड़ों में रहने वाले बच्चे प्राय हीन भावना की दृष्टि से देखे जाते हैं, लेकिन कहावत है कि “कमल कीचड में ही खिलते हैं” और इन्ही शब्दों को सार्थक कर दिखाया है दिल्ली की झोपड़ पट्टी में रहने वाले इन बालकों ने, जो अपना निजी समाचार पत्र प्रकाशित कर अपनी अलग पहचान बना चुके हैं. ‘बालकनामा’ और ‘चिल्ड्रन वॉइस’ नाम से प्रकाशित होने वाला यह अखबार पहली बार 35 बच्चों के सहयोग से प्रकाशित हुआ था, जो आज हजारों लोगों की पसंद बन गया है.


cover



बालकनामा छोटी बस्ती में रहने वाले बालकों तथा युवाओं की दयनीय स्तिथि का मार्मिक चित्रण प्रस्तुत कर देश के लोगों को उनके वास्तविक हालातों से रूबरू करता है. एक समाजसेवी संगठन ‘चेतना’ के सहयोग से प्रकाशित होने वाले इस समाचार पत्र के सम्पादन हेतु उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, बिहार, यूपी और हरियाणा जैसे राज्यों के अनेक बच्चे इसमें शामिल हो रहे हैं जो अपने क्षेत्र के गली कूँचों में रहने वाले बच्चों के हालतों को कहानी के जरिये प्रस्तुत करते हैं.


balak


लगभग 10,000 बच्चे अब इस कड़ी में जुड़ चुके हैं, जो इसके त्रिमासिक संपादन हेतु कहानी, कविता, वास्तविक तथ्य और इंटरव्यू जैसी सामग्री जुटाते हैं. जहाँ एक तरफ बस्तियों में रहने वाले बालक चोरी चकारी, ड्रग्स और पॉकेट बाजी की हरकतें करते नज़र आते हैं, वहीँ बालकनामा समाचारपत्र के लिए काम करने वाले बच्चे रोज इससे सम्बंधित विषय पर परिचर्चा के लिए एकत्र होते हैं, जो अपने-अपने एरिया से जुडी ख़बरें इकट्ठी करते हैं.


balknama


दिल्ली में लगभग 14 बाल रिपोर्टर हैं, जो इसके लिए खबरें बनाते हैं. इनके अलावा अनेक ऐसे रिपोर्टर काम करते हैं, जो खुद लिख नहीं सकते और रिपोर्टर बातूनी रिपोर्टर के नाम से प्रसिद्ध ये बच्चे अपने सम्बंधित रिपोर्टर को जानकारी प्रदान करते हैं जिसके ऊपर खबर बनायीं जाती है.


balaknama2

19 साल की शन्नो बालकनामा अखबार की चीफ एडिटर हैं, जो लोगों की अनसुनी कहानी को शब्द प्रदान कर इसमें स्थान देती हैं. इससे जुड़े कुछ बच्चों के अनुसार – “सामान्य रूप से हमारी मन की बात सुनने वाला कोई नहीं होता, हमको नीचे दर्जे का समझकर समाज में हमको अनदेखा किया जाता है और बालकनामा हमारी आवाज़ को लोगों तक पहुँचाने का एक जरिया है. यह एक ऐसा प्लेटफॉर्म है जहाँ पर हम अपने मन के विचार खुल कर व्यक्त कर पाते हैं”.


balaknama3

इस समाचारपत्र को अधिक से अधिक लोकप्रिय बनाने के उद्देश्य से इसकी कीमत सिर्फ 2 रूपये रखी गयी है. इसके सम्पादन का सारा ख़र्च चेतना नाम की संस्था वहन करती है. वास्तव में झुग्गियों में रहने वाले बच्चों का यह कार्य उनसे जुडी बाल -अपराध बाल – मजदूरी जैसी समस्याओं से निपटने का एक विकल्प है…Next


Read More:

पूरी जिंदगी गंगाजल पिया था इस मुगल शासक ने, गंगाजल लाने के लिए रखी थी सेना

इस रेलवे लाइन को कहा जाता है मौत की लाइन, हजारों लोगों ने इस वजह से दी थी जान

लक्जरी कार से भी महंगी है ये जगह, ये हैं दुनिया के 5 सबसे महंंगे पार्किंंग एरिया

पूरी जिंदगी गंगाजल पिया था इस मुगल शासक ने, गंगाजल लाने के लिए रखी थी सेना

इस रेलवे लाइन को कहा जाता है मौत की लाइन, हजारों लोगों ने इस वजह से दी थी जान

लक्जरी कार से भी महंगी है ये जगह, ये हैं दुनिया के 5 सबसे महंंगे पार्किंंग एरिया


Tags:                                     

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

1 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Noopur के द्वारा
January 21, 2017

वाकई यह काबिले तारीफ बात है . इन् गरीब बच्चों को इस संस्था ने आवाज और कलम देकर बहुत अच्छा काम किया है.


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran