blogid : 7629 postid : 1291325

एयरपोर्ट की पार्किंग लाइट में पढ़ने को मजबूर हैं यहां के बच्चे, वजह कर देगी हैरान

Posted On: 5 Nov, 2016 Infotainment में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

आत्मविश्वास के साथ लक्ष्य प्राप्ति की डगर पर बढ़ते कदम निश्चित ही सफलता पा लेते हैं . उनकी राह में आने वाली बाधाओं का निवारण उनकी दृढ- इच्छाशक्ति से होता है, फिर चाहे जो भी हो, वो अंधेरों में भी उजाले की किरण को तलाश कर अपनी ज़िन्दगी को रोशन कर लेते हैं . कुछ ऐसा ही नज़ारा देखने को मिलता है अफ्रीका के पश्चिमी किनारे पर बसे ‘गुइना’ के ‘कोनाक्री’ शहर एयरपोर्ट पार्किंग में, जहाँ पर रात के अँधेरे में बैठकर छात्रों का समूह अपने भविष्य को चमकाने की कोशिश में जुटा रहता है .
जी हाँ यहाँ के रहने वाले  बहुत से लोगों के क्षेत्र में उचित बिजली की व्यवस्था नहीं है और  कही बिजली है भी तो सप्लाई की कमी है जिसके कारण यहाँ रहने वाले छात्रों को अपनी परीक्षाओं के समय में अच्छी खासी दिक़्क़तें उठानी पड़ती है. रात होने के साथ वो चाहत के बाद भी भी पढ़ नहीं पाते, और इसी समय वो कोनाक्री एयरपोर्ट के रास्तों पर चल पड़ते हैं.
इस एयरपोर्ट की पार्किंग में जहाँ सड़क के किनारे लगी लाइटे वहाँ आने वाली अंतिम फ्लाइट के कारण देर रात तक जलती रहती हैं.  यह लाइटे एयरपोर्ट में काम करने वाले और आने जाने वाले यात्रियों के लिए कोई खास महत्व नहीं रखती लेकिन यहाँ बैठकर पढ़ने वाले छात्रों के लिए उनका भविष्य सवाँरने का एकमात्र विकल्प है .
Read:
यह छात्र इस पार्किंग तक जाने के लिए रोज कई किलोमीटर का सफर तय करते हैं. पिछले दिनों यूनाइटेड नेशन ने अपनी एक रिपोर्ट में उन देशों के नाम प्रकाशित किये जो आज भी अविकसित अथवा अल्पविकसित और बिजली जैसे प्राथमिक समस्या को झेल रहे हैं और साथ ही सुझाव दिए कि उनको तरक्की करने के लिए किन पहलुओं पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए.
वास्तव में गुइना को पूरी तरह से विकसित होने के लिए बाकी सारे देशों की तरह अपने देश में तकनीकी विकास पर जोर देना चाहिए ताकि छात्रों के रूप में उनके देश का भविष्य केवल रोशनी की तलाश में इधर उधर न भटके…Next
Read More:

आत्मविश्वास के साथ लक्ष्य प्राप्ति की डगर पर बढ़ते कदम निश्चित ही सफलता पा लेते हैं. उनकी राह में आने वाली बाधाओं का निवारण उनकी दृढ- इच्छाशक्ति से होता है, फिर चाहे जो भी हो, वो अंधेरों में भी उजाले की किरण को तलाश कर अपनी ज़िन्दगी को रोशन कर लेते हैं. कुछ ऐसा ही नज़ारा देखने को मिलता है अफ्रीका के पश्चिमी किनारे पर बसे ‘गुइना’ के ‘कोनाक्री’ शहर एयरपोर्ट पार्किंग में, जहाँ पर रात के अँधेरे में बैठकर छात्रों का समूह अपने भविष्य को चमकाने की कोशिश में जुटा रहता है.


cover pic

जी हाँ, यहाँ के रहने वाले  बहुत से लोगों के क्षेत्र में उचित बिजली की व्यवस्था नहीं है और कही बिजली है भी तो सप्लाई की कमी है, जिसके कारण यहाँ रहने वाले छात्रों को अपनी परीक्षाओं के समय में अच्छी खासी दिक़्क़तें उठानी पड़ती है. रात होने के साथ वो चाहत के बाद भी भी पढ़ नहीं पाते, और इसी समय वो कोनाक्री एयरपोर्ट के रास्तों पर चल पड़ते हैं.


GUINEA AIRPORT

इस एयरपोर्ट की पार्किंग में जहाँ सड़क के किनारे लगी लाइटे वहाँ आने वाली अंतिम फ्लाइट के कारण देर रात तक जलती रहती हैं.  यह लाइटे एयरपोर्ट में काम करने वाले और आने जाने वाले यात्रियों के लिए कोई खास महत्व नहीं रखती, लेकिन यहाँ बैठकर पढ़ने वाले छात्रों के लिए उनका भविष्य सवाँरने का एकमात्र विकल्प है.


Guinea11

Read: बिस्कुट के लालच में 8 साल का बच्चा बना सीरियल किलर, ये हैं  इतिहास के 6 सबसे बड़े हत्यारे


यह छात्र इस पार्किंग तक जाने के लिए रोज कई किलोमीटर का सफर तय करते हैं. पिछले दिनों यूनाइटेड नेशन ने अपनी एक रिपोर्ट में उन देशों के नाम प्रकाशित किये जो आज भी अविकसित अथवा अल्पविकसित और बिजली जैसे प्राथमिक समस्या को झेल रहे हैं और साथ ही सुझाव दिए कि उनको तरक्की करने के लिए किन पहलुओं पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए.


guina


वास्तव में गुइना को पूरी तरह से विकसित होने के लिए बाकी सारे देशों की तरह अपने देश में तकनीकी विकास पर जोर देना चाहिए ताकि छात्रों के रूप में उनके देश का भविष्य केवल रोशनी की तलाश में इधर उधर न भटके…Next



Read More:

अपने ही देश से निकाला गया यह व्यक्ति, 18 वर्षों तक एयरपोर्ट पर जिन्दगी बिताने को विवश

इस 14 साल के बच्चे में क्या है खास, अपॉइंटमेंट लेते हैं शाहरूख-सलमान और दुनिया भर के सेलिब्रिटीज

लक्जरी कार से भी महंगी है ये जगह, ये हैं दुनिया के 5 सबसे महंंगे पार्किंंग एरिया



Tags:                             

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran