blogid : 7629 postid : 1235864

इतिहास का सबसे निर्दयी राजा, 4 पत्नियों और 500 रखैलों से हैं इसकी 1,171 संताने

Posted On: 30 Aug, 2016 Infotainment में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

ना जाने कितने रहस्य इतिहास के सीने में दफ़न होते हैंं. अगर खोजा जाए तो दुनिया में सदियों पुराने महल, किले, वस्तुयें, नगर अथवा राज्य कोई न कोई कहानी बयाँ करते हैं. ‘मोरक्को’ उत्तरी अफ्रीका का एक देश जो एक सुल्तान के इतिहास का गवाह है, जिसका नाम ‘सुल्तान मौलय इस्माइल’ था और 1672 से 1727 तक उसने ‘मोरक्को’ पर राज किया.


moulay-ismail 1



मुहम्मद का वंशज था सुल्तान मौलय

सुल्तान मौलय को इस्लाम के संस्थापक मुहम्मद का वंशज माना जाता है और साथ ही तकरीबन 1,000 बच्चों का पिता भी. यद्धपि वैज्ञानिक इतिहास के इन आंकड़ों पर संदेह जताते हैं, जिसकी  पुष्टि के लिए एक मानव-विज्ञान टीम का गठन कर कम्प्यूटर एक्सपेरिमेंट कर इसकी सत्यता की जाँच की गयी और पाया की अगर कोई व्यक्ति 32 साल लगातार रोज अलग अलग स्त्रियों के साथ एक बार संबंध बनाए तो इसकी सम्भावना है.


Sultan Moulay

888 बच्चे थे सुल्तान मौलय इस्माइल के

सुल्तान मौलय इस्माइल के बच्चों की संख्या के बारे में अनेक मत हैं. जहाँ ‘गिनीज बुक ऑफ़ वर्ल्ड रिकॉर्ड’ के अनुसार उसके 888 बच्चे थे, वहीँ फ्रेंच के कूटनीतिज्ञ ने उसके 1,171 बच्चे होने का दावा किया. मौलय ने “फैज़” (मोरक्को का एक नगर )में 400 आदमियों के सर काटकर अपने शासन की शुरुआत की और अपने 55 साल के राज्यकाल में तकरीबन 30,000 लोगों का शोषण कर उनको मौत के हवाले कर दिया (इसमें युद्ध में मारे जाने वाले सैनिकोंं और राजाओं की संख्या शामिल नहीं है ).


Ismail

Read: इस देश का राजा है यह व्यक्ति, पका रहा है सबके लिए खाना

1,50,000 सैनिकों के साथ मिलकर फैलाया आंतक

मोरक्को के इतिहास का सबसे शक्तिशाली “मौलय” बहुत निर्दयी प्रवृत्ति का था जिसके कारण उसको “खूँखार रक्तपिपासु” की उपाधि दी गयी. उसने 1,50,000 सैनिकों के सेना गठित कर मोरक्को में क्रूरता का आंतक फैलाया.”मौलय” अपनी 4 पत्नियों और 500 रखैलों पर बहुत पैनी नज़र रखता था. अगर कोई व्यक्ति बिना उसकी आज्ञा के इन स्त्रियों से बात करता पाया जाता तो उसको तुरंत मृत्युदंड दे दिया जाता.


Moulay-Ismail


संतानो में राजगद्द्दी को लेकर झगड़े हुए

80 साल की उम्र में ‘मैक्नेस’ में मौलय की मृत्यु हो गयी जिसके बाद उसकी संतानोंं में राजगद्द्दी के लिए झगड़े शुरू हो गए. 1755 में तीव्र भूकंप से उसके साम्राज्य को बहुत नुकसान हुआ, जिसके बाद 1757 में मौलय के पोते मुहम्मद III ने ‘मर्राकेश’ को अपनी राजधानी घोषित किया. आज भी मोरक्को में उसके वंशज शासन कर रहे हैं…Next


Read More:

दुनिया की सबसे महंगी कार से भारतीय राजा ने उठवाया कचरा, लिया अपने अपमान का बदला

वैज्ञानिकों के लिए रहस्य है इस राजा की मौत, एक्स-रे के लिए तीन बार निकाला गया कब्र से

कैसे राजा का बंगला बना देश का यह प्रसिद्ध गुरूद्वारा



Tags:                   

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 1.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

2 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

babulu के द्वारा
August 30, 2016

ye Muslim sab ESE hi Hi.kisko lutenge ,kisiko marenge,ye sab pic he sent bar karne me ustad hai.koi same se in he lalkare to inks hand hi phat jata hai

Abdul mannan khan ashrafi के द्वारा
August 30, 2016

Ye hamare huzoor mohammad ka wanshaj ho hi nahi sakta kyu ki …mohammad sahab ne ،kabhi mazloom aur gareebo ko nahi sataya aur ,,,kabhi be wajah kisi par talvar nahi chalaya ,,,,,main un logo-n se guzarish karunga ،،،jo aisi nwes post karte hain ,,,vo pahle mohammad sahab ki history ko stuydy kare-n


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran