blogid : 7629 postid : 1196513

पति नहीं प्रेमी के साथ बनी है दिल्ली के इस महिला शासक की कब्र, हैरान कर देगी इनकी लवस्टोरी

Posted On: 30 Jun, 2016 Infotainment में

Pratima Jaiswal

  • SocialTwist Tell-a-Friend

‘बगावत, रंजिशे उफ्फ ये खून-खराबा, आ चल ऐसी दुनिया में जहां सिर्फ मोहब्बत, मैं और तुम हो’.

जब कोई इंसान प्यार में होता है तो वो दुनियादारी से कटने लगता है. बड़ी से बड़ी सल्तनत मिलने पर भी उन्हें खुशी नहीं मिलती. लेकिन कहते हैं न, ‘कभी किसी को मुकम्मल जहां नहीं मिलता, कहीं जमीं तो कहीं आसमां नहीं मिलता’. कुछ ऐसी ही कहानी है दिल्ली की सल्तनत को अपने नाम करने वाली ‘रजिया सुल्तान’ की लवस्टोरी. भारत की पहली महिला शासक की जिंदगी की कहानी जितनी रोचक है उससे भी कहीं ज्यादा उनकी प्रेम कहानी गर्दिशों से जूझती हुई है, जिसके बारे में बहुत कम लोग जानते हैं.




razia

अपने पिता की मौत के बाद संभाली थी दिल्ली सल्तनत

शम्स-उद-दिन इल्तुतमिश की मौत के बाद उनके बड़े बेटे को दिल्ली की राजगद्दी पर बैठाया गया था. ऐतिहासिक कहानी के मुताबिक पहले उनके बड़े बेटे को उत्तराधिकारी के रुप में तैयार किया गया  परन्तु दुर्भाग्यवश उसकी बहुत कम उम्र में मृत्यु हो गई थी लेकिन मुस्लिम राजवंश को इल्तुतमिश का किसी महिला को वारिस बनाना नामंजूर था, इसलिए उसकी मौत के बाद उसके छोटे बेटे रक्नुद्दीन फिरोज शाह को राज सिंहासन पर बैठाया गया. रक्नुद्दीन, का शासन बहुत ही कम समय के लिये था. विलासी और लापरवाह रक्नुद्दीन के खिलाफ जनता में इस सीमा तक आक्रोश उमड़ा, कि 9 नवंबर 1236 को रक्नुद्दीन तथा उसकी माता, शाह तुर्कान की हत्या कर दी गयी. उसका शासन मात्र छह महीने का था. इस वजह से मुस्लिम राजवंश के आला अधिकारियों ने रजिया सुल्तान को दिल्ली की बागडोर दे दी.




razia sultan1


अपने सलाहकार याकूत से कर बैठी थी मोहब्बत

रजिया को अपने सलाहकार जमात-उद-दिन-याकूत से मोहब्बत हो गई थी. दोनों एक-दूसरे को बेइंतहा चाहते थे लेकिन मुसलमान शासकों को एक शासिका की ये बात पसंद नहीं आई. जबकि रजिया अपनी मोहब्बत के साथ फर्ज को भी बखूबी निभा रही थी. बताया जाता है कि रजिया के प्रेमी याकूत से नफरत करने की सबसे बड़ी वजह ये थी कि याकूत तुर्की नहीं था. साथ ही रजिया ने युद्ध के घोड़ों की जिम्मेदारी देते हुए याकूत को घुड़शाला का अधिकारी नियुक्त कर दिया था. एक घुड़शाला में काम करने वाले व्यक्ति के साथ दिल्ली की सुल्तान का निकाह राज्यपालों, उच्च अधिकारियों और मुस्लिम राजवंश के सूबेदारों को पसंद नहीं था.



yakut


Read : कोई अपनों से पीटा, तो किसी को अपनों ने लूटा


अल्तुनिया ने याकूत को मारकर रजिया से किया निकाह

भटिंडा के राज्यपाल मल्लिक इख्तियार-उद-दिन-अल्तुनिया को रजिया की खूबसूरती भा गई थी. उसने दिल्ली पर कब्जा करने के इरादे से दिल्ली पर हमला बोल दिया और रजिया की पहली मोहब्बत याकूत को मारकर रजिया को बंदी बना लिया.



altunia



दिल्ली को बचाने के लिए कर ली अल्तुनिया से शादी

अपने पिता से किया हुआ वादा पूरा करने के लिए रजिया ने  अल्तुनिया से शादी कर ली. कहते हैं कि अपने फर्ज की खातिर रजिया ने बेशक अल्तुनिया से शादी कर ली लेकिन वो उम्रभर याकूत को ही चाहती रही. इसी बीच रजिया के भाई, मैजुद्दीन बेहराम शाह ने सिंहासन हथिया लिया. अपनी सल्तनत की वापसी के लिये रजिया और उसके पति, अल्तुनिया ने बेहराम शाह से युद्ध किया, जिसमें उनकी हार हुई. उन्हें दिल्ली छोड़कर भागना पड़ा और अगले दिन वो कैथल पंहुचे.



razia 22

Read : इनकी मौत पर नहीं था कोई रोने वाला, पैसे देकर बुलाई जाती थी रुदाली



जाट शासकों को देखकर भाग गई थी रजिया की सेना

कैथल में रजिया और उसके पति का सामना जाट राजाओं से हुआ. जहां उनकी सेना ने दोनों का साथ छोड़ दिया. जाट राजाओं ने अल्तुनिया को मारने के बाद रजिया को भी मार दिया. जबकि दूसरी तरफ ये भी कहा जाता है कि अपनी इज्जत बचाने के लिए रजिया ने आखिरी बार याकूत का नाम लेते हुए खुद को तलवार मार ली.


razia tomb



पति नहीं पहले प्यार के साथ बनी है कब्र

रजिया सुल्तान और उनके प्रेमी याकूत की कब्र का दावा तीन अलग-अलग जगह पर किया जाता है. हालांकि, रजिया की मजार को लेकर इतिहासकार एक मत नहीं है. रजिया सुल्तान की मजार पर दिल्ली, कैथल एवं टोंक अपना अपना दावा जताते आए हैं. अलग-अलग समय पर इतिहासकार इस बारे में अपनी थ्योरी पेश करते रहे हैं लेकिन इतना तो तय है कि रजिया के साथ उनके प्यार याकूत की ही कब्र है. जबकि अल्तुनिया का नाम केवल इतिहास की एक घटना के रूप में ही रजिया के साथ जोड़ा जाता है…Next


Read more

समाज से बेपरवाह और परिवार से निडर, इन बोल्ड पुरूषों ने की ट्रांसजेंडर पार्टनर से लव मैरिज

शादी के बिना 40 साल रहे एक साथ, पेंटिंग और कविता से करते थे दिल की बात

उनका प्यार झूठा नहीं सच्चा है यह साबित करने के लिए जान दे दी




Tags:                                               

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran