blogid : 7629 postid : 1180738

अकेले ही 256 बम डिफ्यूज करने वाला ये है जांबाज, बचाई हजारों लोगों की जान

Posted On: 24 May, 2016 में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

कहते हैं अगर सच्चे दिल से किसी की मदद करना चाहो तो खुदा भी तुम्हे यह नेक काम करने से नहीं रोकता, और जब बात किसी के जान बचाने की हो तो क्या बात. आज की इस दुनिया में ऐसे बहुत ही कम लोग मिलते हैं जो अपनी जान को जोखिम में ड़ालकर दूसरों के लिए जिएं और मरे. लेकिन हमारे देश में हजारों लोग रोज ऐसा करते है. ये और कोई नहीं हमारे देश की गौरव कहीं जाने वाली सेना है जो दिन रात सिर्फ हमारी सुरक्षा के बारे में सोचती हैं, जिसे ना बम से डर लगता है ना ही रात के अंधेरे से. शायद यही वजह है जो बिना किसी ड़र के तपती गर्मी और ठंडे तापमान में भी अपना हौसला बनाए रखती हैं.


Army1


भारतीय सैनिकों के कारनामों ने यह सिद्ध किया है कि देशभक्ति के मामले में भारतीय सैनिकों का कोई जवाब नहीं. चाहे भारत-पाक युद्ध हो या फिर करगिल की लड़ाई, हर लड़ाई में हमारी सेना ने कमाल की बहादुरी दिखाई और इसलिए आज भारतीय सेना दुनिया की ताकतवर सेना में गिनी जाती है. यूं तो सेना पर कई फिल्में बनी है लेकिन आज हम आपको रूबरू करवाएंगे एक सच्ची कहानी से जिसने अपनी जिंदगी में डर को कभी महसूस ही नहीं किया.


ये कहानी है राजस्थान के रायपुर में जन्में सैनिक नरेद्र चौधरी की जिन्हें हाल ही में सलामी देकर अलविदा कर दिया गया. नरेन्द्र चौधरी अपने कार्यकाल में भारतीय सेना के बम निरोधक दस्ते का हिस्सा थे. छत्तीसगढ़ व अन्य नक्सल-प्रभावित इलाकों में कार्यरत रहे नरेन्द्र चौधरी ने कभी भी अपनी जान की परवाह नहीं की. अपनी जिन्दगी में उन्होंने कुल 256 बम डिफ्यूज़ किए व नक्सल-प्रभावित क्षेत्रों में हज़ारों लोगों की जान बचाई.


Read: सेना में चौंकाने वाले इस सच को महिला सैनिक ने किया उजागर


Army

नरेन्द्र चौधरी को उनके सहकर्मी व दोस्त उन्हें ‘स्टील मैन’(Steel Man) के नाम से बुलाते थे. नरेन्द्र 50 किलोमीटर तक बिना पानी व खाने के चल सकते थे और इस कारण वे काफी लोकप्रिय भी थे. वर्ष 2005 से नरेन्द्र चौधरी छत्तीसगढ़ के एक सेना प्रशिक्षण कॉलेज में ट्रेनर के रूप में कार्यरत थे. जंगल सरीखे इलाकों में जंग का प्रशिक्षण देने वाले इस कॉलेज में नरेन्द्र दूसरों को बम डिफ्यूज़ करना सिखाते थे. हमेशा दूसरों के लिए अपनी जान पर खेलने वाले नरेन्द्र चौधरी की मौत एक हादसे के कारण हुई है. बम डिफ्यूज़ करने का प्रशिक्षण देते वक़्त विस्फोट हो जाने से इनकी मौत हुई. खबरों की मानें तो अगर वहां सही तरीके से सुरक्षा होती और ट्रेनिग सही से दी जाती तो शायद नरेंद्र कई और बमों को डिफ्यूज़ कर सकते थें.


Army111

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री ने जांबाज़ नरेंद्र चौधरी की शहादत को श्रद्धांजली दी है व परिवार वालों को उचित मुआवज़ा दिलवाने की भी बात भी कही है. इसे कुदरत का खेल ही कहेंगे कि जिस व्यक्ति को आजतक 256 बम नहीं छु पाए वह प्रशिक्षण देते हुए शहीद हो गया, और इसलिए आज हम नरेन्द्र सिंह की बहादुरी व उनके बलिदान को नमन करते हैं.

हम चाहते हैं कि यह प्ररेणादायक कहानी हर भारतीय जानें ताकि हम अपने सैनिकों के बलिदान को समझ सकें कि वो किस तरह अपनी जान को जोखिम में ड़ालकर करोड़ों लोगों के लिए जीते हैं और इसलिए आज हम महफूज हैं… Next


Read More

विदेश में लाखों का पैकेज छोड़ ये मॉडल हुआ सेना में शामिल

ये वो दस देशों की सेना है जिनके कामों पर आप भी कर सकते हैं गर्व

सेना में भूत को मिलता है वेतन और प्रमोशन



Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran