blogid : 7629 postid : 1141712

8 बार किया जा चुका है यात्रियों से भरे इन भारतीय विमानों को हाईजैक, ये हैं घटनाओं की हैरान कर देने वाली कहानियां

Posted On: 24 Feb, 2016 Infotainment में

Pratima Jaiswal

  • SocialTwist Tell-a-Friend

मुम्बई से न्यूयॉर्क के लिये रवाना पैन ऍम-73 को कराची में चार आतंकवादियों द्वारा हाईजैक करने के घटनाक्रम पर बनी फिल्म ‘नीरजा’,  इन दिनों सभी लोगों के बीच चर्चा का विषय बनी हुई है. एक सच्ची घटना पर आधारित इस फिल्म को सच्चाई से काफी मेल खाती कहानी बताया जा रहा है. देखा जाए तो, भारत में पैन ऍम-73 प्लेन को हाईजैक करने की ये कोई पहली घटना नहीं थी बल्कि इससे पहले भी भारतीय विमानों को 8 बार हाईजैक किया जा चुका है. लेकिन अधिकतर लोग केवल कंधार प्लेन हाईजैक के बारे में ही जानते हैं. आइए हम आपको बताते हैं भारतीय प्लेन हाईजैक की आठ कहानियां.


plane hijack

जनवरी 1971 : श्रीनगर से जम्मू जा रहे भारतीय विमान को हाशिम कुरैशी और अशरफ कुरैशी (जम्मू-कश्मीर लिबरेशन फ्रंट दल) ने हाईजैक किया था. ये दोनों इस प्लेन को हाईजैक करके पाकिस्तान के तत्कालीन विदेश मंत्री जुल्फिकार अली भुट्टो के पास ले गए थे. ऐसा कहा जाता है कि पब्लिसिटी के लिए भुट्टो ने इस घटना को सुर्खियों में रखा. हांलाकि उन्होनें इन दोनों हाईजैकर्स को सभी यात्रियों को सुरक्षित छोड़ने का निर्देश भी दिया था. जिन्हें अमृतसर जाने वाले सड़कमार्ग पर छोड़कर, एयरक्राफ्ट में आग लगा दी गई.

सितम्बर 1981 : श्रीनगर से दिल्ली जा रहे एक भारतीय विमान को कुछ सिख आंतकवादियों ने, लाहौर में प्लेन को हाईजैक कर लिया था. इस विमान के सभी यात्रियों को पाकिस्तान कमांडो ने बचाया था.

plane hijacked14

Read : विदेश जाने की इच्छा रखने वाले भक्त इस गुरूद्वारे में चढ़ाते हैं हवाई जहाज

अगस्त 1982 : मुम्बई से नई दिल्ली के लिए रवाना होने वाले बोइंग 737 प्लेन को एक अकेले आंतकवादी ने एक पिस्तौल के दम पर हाईजैक कर लिया था. लेकिन भारतीय सेना ने सभी 69 यात्रियों को बचाते हुए आंतकवादियों को मार गिराया.

अगस्त 1982 : जोधपुर से दिल्ली जा रहे एक भारतीय विमान को अमृतसर में हाईजैक कर लिया गया.

plane hijack 23


जुलाई 1984 : 255 यात्रियों को श्रीनगर से दिल्ली ले जा रहे एक भारतीय विमान को लाहौर, पाकिस्तान में हाईजैक कर लिया गया. लेकिन भारतीय सेना की मुस्तैदी के चलते 17 घंटे में आंतकियों ने सरेंडर कर दिया.

अगस्त 1984 : सात युवा हाईजैकर्स ने एक भारतीय विमान की मांग करते हुए, इसके एवज में एक घरेलू विमान को हाइजैक कर लिया था. इस प्लेन को चंड़ीगढ़ से श्रीनगर जाना था, लेकिन आंतकियों ने प्लेन को कराची, लाहौर और दुबंई घुमाया. अपनी नैतिक जिम्मेदारी लेते हुए दुंबई के रक्षा मंंत्रालय ने आंतकियों के साथ बातचीत करके, यात्रियों को मुक्त करने को कहा. अंत में इस प्लेन को छुड़वा लिया गया. इस हाईजैक के बारे में कहा जाता है कि इस घटना में जर्मनी के बने हुए कारतूस और हथियार पाए गए थे जिनका सम्बध पाकिस्तान से भी था. लेकिन हमेशा कि तरह पाकिस्तान ने इस आरोप को बेबुनियाद बताया.

Pakistan Karachi Pan Am Hijacking

Read : वैज्ञानिकों का मानना है, पेशेवर पायलटों को पछाड़ कर अब कुत्ते उड़ाएंगे हवाई जहाज!

अप्रैल 1993 : श्रीनगर से जम्मू होते हुए दिल्ली जा रहे इस प्लेन को हाईजैकर्स ने हाईजैक करके पाकिस्तान के लाहौर ले जाने का दबाव डाला था, लेकिन अधिकारियों ने इसकी अनुमति नहीं दी. हांलाकि प्लेन को अमृतसर में मुक्त करवाकर आंतकियों को मार गिराया गया.

दिसम्बर 1999 : भारतीय विमान 814,  काठमांडू के लिए रवाना हो चुका था लेकिन इस विमान को कंधार मोड़ लिया गया. करीब एक हफ्ते की बहस के बाद, आंतकियों की मांग को मानते हुए भारतीय मंत्रालय ने 3 कश्मीरी आंतकियों को रिहा कर दिया. दुख की बात ये है कि इस विमान में एक यात्री को मार दिया गया. चेतावनी के रूप में एक पायलट को गोली मार दी गई थी…Next

Read more :

इस प्लेन से केवल 30 मिनट में दिल्ली से न्यूयॉर्क की दूरी होगी तय!

प्लेन क्रैश होने पर इस टेक्नोलॉजी से बचाई जा सकेगी यात्रियों की जान

एरोप्लेन का आविष्कार सर्वप्रथम अमेरिका में नहीं बल्कि भारत में हुआ था फिर भी उसका श्रेय राइट ब्रदर्स को मिल गया, जानिए कैसे



Tags:                                     

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran