blogid : 7629 postid : 1102219

भयंकर रक्तपात हुआ था इस भूमि पर, आम के पेड़ से निकलता था खून

Posted On: 28 Sep, 2015 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

आपने सुना होगा कि महाभारत काल में कौरवों और पांडवों के बीच हुए युद्ध के कारण आज भी करुक्षेत्र की भूमि लाल है. लेकिन आपको जानकर हैरानी होगी कि करुक्षेत्र की तरह एक स्थान और है जहां की भूमि हजारों सैनिकों के रक्त से लाल हो गई थी. वह है हरियाणा का पानीपत.


mango-tree-


हरियाणा के पानीपत की रणभूमि में हुए रक्तपात का अंदाजा आप इसी बात से लगा सकते हैं कि यहाँ पर लगे पेड़-पौधों का रंग भी तब लाल और काला पड़ गया था. इस रणभूमि में एक आम का पेड़ भी था जिसके फल को काटने पर रक्त की तरह लाल रंग का रस निकलता था.


jagran 22

इतिहास की किताबों में आपने पानीपत की लड़ाई को जरूर पढ़ी होगी. इतिहास में यहाँ तीन प्रमुख लड़ाई हुई थी. इस भूमि पर पहली लड़ाई सन् 1526, दूसरी लड़ाई सन् 1556 और तीसरी लड़ाई सन् 1761 में लड़ी गई थी.


Read: भारत रत्न से क्यों चुका हॉकी का “जादूगर”


यह घटना पानीपत की तीसरी लड़ाई की है. यह युद्ध मराठों और मुगलों के बीच लड़ा गया था. मराठों की तरफ से सदाशिवराव भाऊ और मुगलों की ओर से अहमदशाह अब्दाली ने नेतृत्व किया था. इस युद्ध में हजारों सैनिकों की जाने गई थी. युद्ध में अकेले मैराठों ने अपने 70 हजार से भी ज्यादा सैनिकों को गवाए थे. इस युद्ध को भारत में मराठा साम्राज्य के अंत के रूप में देखा जाता है. युद्ध में अहमदशाह अब्दाली की जीत हुई थी.



jagran 11



युद्ध भूमि में एक विशाल आम का पेड़ था. युद्ध के दौरान जब सैनिक थक जाते थे तो इसी पेड़ के नीचे विश्राम करते थे. कहा जाता है कि भीषण युद्ध के कारण हुए रक्तपात से यहाँ की मिट्टी लाल हो गई थी, जिसका प्रभाव रणभूमि में आम के पेड़ पर भी पड़ा. रक्त के कारण आम के पेड़ का रंग काला हो गया और तभी से इस जगह को ‘काला अंब’ यानी काला आम के नाम से जाना जाने लगा.


Read: अजीबो-गरीब दुनिया की अजीब रेसिपी

‘काला अंब’ से जुड़े एक दिलचस्प तथ्य यह भी है कि इस पेड़ पर लगे आम को काटने पर उनमें से जो रस निकलता था, उसका रंग रक्त की तरह लाल होता था. वर्षों बाद यह पेड़ सूख गया तब इसे कवि पंडित सुगन चंद रईस ने खरीद लिया था. सुगन चंद ने इस पेड़ की लकड़ी से अपने घर के दरवाजे बनवाए. यह दरवाजा अभी भी पानीपत म्यूजियम में रखा गया है.Next…


Read more:

अनोखा संबंध: इस गांव में पेड़ बेटियों और बेटियां पेड़ों को बचाती हैं

पेड़ पर ही लटकती रहती है उसकी लाश

इस ‘जादुई पेड़’ पर लगते हैं 40 किस्म के फल





Tags:                         

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

1 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

narayan singh के द्वारा
June 28, 2016

बहुत भडिय़ा


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran