blogid : 7629 postid : 965850

देश की एकमात्र युवती जिसे मिली है तीन बार फांसी की सजा

Posted On: 31 Jul, 2015 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

इश्क पवित्र हो तो वह इंसान को वह ऊंचाई दे देता है कि वह खुदा समान हो जाता है लेकिन कई दफा ऐसा भी होता है कि इश्क अच्छे खासे इंसान को हैवान बना देता है. 23 साल की खूबसूरत नेहा, इश्क के जूनून में ऐसी हैवानगी कर गई की कोर्ट ने उसके अपराध को ‘रेयरेस्ट आफ द रेयर’ का मामला मानते हुए तीन बार सजा-ए-मौत सुनाई. आमतौर पर अपराध के साबित हो जाने पर केवल एक ही बार फांसी की सजा सुनाई जाती है. लेकिन नेहा ने अपने साधियों के साथ मिलकर एक परिवार की तीन पीढ़ियों का कत्ल कर दिया था जिसके कारण उसे सेसन कोर्ट ने तीन बार फांसी की सजा देने का फरमान सुनाया. उसके दो साथियों को भी समान सजा दी गई.


neha 1


इंदौर की जिला जेल की महिला सेल में बंद नेहा वर्मा आज 27 साल की है. अपराध के वक्त वह मात्र 23 साल की थी. 19 जून 2011 को उसने अपने प्रेमी रोहित उर्फ गोविंदा चौधरी (24) और उसके दोस्त मनोज अटोदे (32) की मदद से बैंक अधिकारी निरंजन देशपांडे की पत्नी मेघा (45), बेटी अश्लेषा (23) और सास रोहाणी फड़के (70) को मौत के घाट उतार दिया था. यह हत्या लूट-पाट के मकसद से की गई थी.


Read: आखिर बंधकों को नारंगी कपड़े पहनाकर ही क्यों हत्या करता है आईएस?


इस तिहरे हत्याकांड से पूरा इंदौर सन्न रह गया था. पूछताछ में नेहा ने पुलिस को बताया कि वे और उसके प्रेमी राहुल शादी करना चाहते थे लेकिन उनके पास पैसे नहीं थे. शादी के लिए पैसा जुटाने के लिए उन्होंने इस घटना को अंजाम दिया. इस अपराध में रोहित का दोस्त मनोज ने भी उनका साथ दिया.



neha 2



घटना के लगभग दो महीने पहले शहर के एक शॉपिंग माल में नेहा मेघा से मिली, उसे यह पता था कि एक बड़े अधिकारी की पत्नी मेघा के घर में उनके, उनकी बेटी अश्लेषा, और उनकी मां के अलावा कोई नहीं रहता. एक रविवार नेहा, एक मार्केटिंग कंपनी का फार्म भरवाने के बहाने मेघा के घर पहुंची और वहां सबकुछ ठीक देख उसने वहां से रोहित को फोन करके बुला लिया. रोहित अपने दोस्त मनोज के साथ मेघा के घर में दाखिल हुआ और घर में घुसते ही मेघा को गोली मार दी. गोली की आवाज सुन अश्लेषा और उसकी दादी रोहाणी भागते हुए बाहर आए. रोहित और मनोज ने उन्हे चाकूओं से गोदकर मार डाला.  इसके बाद तीनों को घर के कीमती सामान  लेकर फरार हो गए.



neha 3



इंदौर की सेशन कोर्ट द्वारा नेहा और उसके दोनो साथियों को सुनाई गई सजा को हाईकोर्ट ने भी बरकरार रखा. फिलहाल सुप्रीम कोर्ट ने उनकी फांसी पर स्टे लगा रखा है जहां उनकी सजा पर अंतिम सुनवाई हो रही है. Next…


Raed more:

चौंकने की बात नहीं, बदायूं में हत्या और बलात्कार आम बात है

बेटे की जान बचाने के एवज में चुड़ैलों ने उसे मौत दे दी…..काले जादू की हकीकत से पर्दा उठाती एक कहानी

आत्महत्या के लिए प्रेरित करती है ये इमारत, जानिए क्या है बिल्डिंग का रहस्य और क्यों लोग यहां मरने आते हैं



Tags:                     

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran