blogid : 7629 postid : 949061

इस देश में चूहे बनकर आए हीरो, बचा रहें हैं हजारों जानें

Posted On: 20 Jul, 2015 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

आमतौर पर चूहों को हम ऐसे जानवर के तौर पर देखते हैं जो घर में कपड़े, खाने के समान आदि को कुतर कर नुकसान पहुंचाते हैं और गंदगी भी फैलाते हैं. खैर जिन चूहों से आप इतना नफरत करते हैं वे इंसानों की जिंदगियां भी बचा सकते हैं. कंबोडिया में खास तौर पर ट्रेन किए गए चूहे लैंड माइन खोजने का महत्वपूर्ण काम कर रहें हैं. कंबोडिया में तीन दशक चले गृहयुद्घ के कारण पूरे देश में जगह –जगह बारूदी सूरंग फैली हुई हैं जिनकी वजह से हर साल सैकड़ो जानें चली जाती हैं.


rat 3


एक अनुमान के अनुसार इस देश में 40,000  विकलांग लोग रह रहें हैं जो बारूदी सूरंगों के फटने के कारण विकलांग हुए हैं. कंबोडिया माइन एक्शन सेंटर के अनुसार इस देश में तकरीबन 40-60 लाख बारूदी सूरंग फैली हैं जो अबतक फटी नहीं हैं. साल 2013 में बारूदी सूरंगों के फटने के कारण 22 लोगों की मृत्यु हो गई थी और 89 लोग घायल हो गए थे. हताहतों में एक तिहाई संख्या बच्चों की होती है.


Read: 15000 चूहे पैदा कर सकने वाली एरिक की अजीबोगरीब कहानी, आखिर कैसे बनी वह ‘रैट गर्ल’


ये बारूदी सूरंग कहां-कहां बिछी हैं इसके न कोई गवाह हैं, न ही इनका कोई नक्शा है. ऐसे में इन सूरंगों का पता लगाना बेहद दुष्कर कार्य हो जाता है. इनको ढ़ूढ़ने के लिए समय और कुशल कर्मियों की आवश्यक्ता होती है. जिस वजह से इस कार्य के लिए काफी भारी निवेश की जरूरत है. खैर अब खास तरह से प्रशिक्षित चूहे इस समस्या को काफी हद तक सुलझा रहें हैं.


Trained-rats1


अफ्रीकी नश्ल के इन 15 भीमकाय चूहों को कंबोडिया में बारूदी सूरंग खोजने के कार्य मे लगाया गया है. ऐसा एक चूहा 20 मिनट के भीतर 2,152 वर्ग फीट भूमि में फैले बारुदी सूरंगों का पता लगा लेता है जबकि यही काम को मेटल डिटेक्टर के साथ करने में एक आदमी को 1 से 4 दिन लग जाते हैं. ये चूहे ‘टीएनटी’ का सूंघकर पता लगाने के लिए खासतौर पर प्रशिक्षित किए गए हैं. बारूद का पता लगते ही वे जमीन को अपने पावों से खुरचकर, निगरानी कर रहे कर्मचारी को इशारा कर देते हैं. Next…

Read more:

चूहा देखकर अपनी मनोकामनाएं पूर्ण करें

इस लड़की के प्यार में कौवे देते हैं बेशकीमती तोहफे

आम नहीं है यह कुत्ता, इसको पालना बजट से है बाहर



Tags:                 

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 4.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran