blogid : 7629 postid : 807335

जेल जाने से बचना है तो कभी न करें रेल में ये 10 गलतियां

Posted On: 12 Jul, 2015 Infotainment में

Mukesh Kumar

  • SocialTwist Tell-a-Friend

भारतीय रेल में रोजाना ऑस्ट्रेलिया की पूरी आबादी के बराबर यानी लगभग 2 करोड़ 30 लाख से ज्यादा यात्री सफर करते हैं. लेकिन इस सफर के दौरान  यात्री जाने-अनजाने कई ऐसी गलतियां कर बैठते हैं जिसकी सज़ा उन्हें जुर्माने अथवा कारावास के रूप में भुगतनी पड़ती है. इन दंडों से बचने के रास्ते रेलवे-नियमों की जानकारी होने में है. आइए इन नियमों और सामान्य गलतियों पर नजर दौड़ाते हैं.



ticket



1. बेटिकट होने पर

यात्री के पास टिकट न होने की स्थिति में अथवा इस्तेमाल की हुई टिकट पर फिर यात्रा करने के दौरान पकड़े जाने पर छह माह की जेल या एक हजार रूपए का जुर्माना अथवा दोनों हो सकता है.


2. उचित श्रेणी में यात्रा न करना

टिकट में लिखी श्रेणी में यात्रा करने के बजाय उच्च दर्जे में यात्रा करना अपराध की श्रेणी में आता है. पकड़े जाने पर दोनों श्रेणी के किराये के बीच का अंतर जुर्माने के रूप में चुकाना होता है. जुर्माने की रकम न अदा कर पाने पर 1 माह तक की जेल हो सकती है.


Read: अब एयर टिकट की तर्ज पर बनेगा रेल टिकट भी


3. टिकट कालाबाज़ारी करना

रेलवे-टिकट की कालाबाज़ारी अपराध है। इसके तहत अनधिकृत होने पर भी रेलवे-टिकट बेचना अपराध की श्रेणी में आते हैं. इसके लिए तीन माह का कारावास अथवा पाँच हज़ार रूपए जुर्माना अथवा दोनों की सजा हो सकती है.


4. दूसरों की टिकट अपनी नहीं होती

किसी दूसरे की टिकट पर यात्रा करने पर तीन महीने का कारावास अथवा पाँच हजार रूपए जुर्माने की सजा हो सकती है. इस टिकट को ज़ब्त कर टिकट निरीक्षक संबंधित यात्री को बेटिकट मान कर कार्रवाई कर सकता है.


ticket2


5. नशा-नशा न खेलें

रेल में शराब पीना अपराध है. शराब के नशे में पकड़े जाने पर टिकट ज़ब्त करने के साथ ही छह माह की जेल अथवा पाँच हजार रूपए का जुर्माना भरना पड़ सकता है.


6. यात्रा को धुएँ में न उड़ाए

रेल में सिगरेट पीना सख्त मना है. ऐसा करने पर सौ रूपए तक का जुर्माना भरना पड़ सकता है.


7. विस्फोटक व ज्वलनशील पदार्थ न ले जाएँ

रेल में गैस-सिलिंडर अथवा कैरोसीन जैसे ज्वलनशील पदार्थ के साथ यात्रा करना मना है. ऐसा करने पर तीन साल तक का कारावास अथवा एक हज़ार रूपए का जुर्माना अथवा दोनों की सज़ा भुगतनी पड़ सकती है. इन उत्पादों की वज़ह से किसी भी प्रकार की क्षति होने पर उसकी भरपाई भी उसी यात्री को करनी होगी जो ऐसे उत्पादों के साथ यात्रा करता है.


8. पाँच साल से अधिक उम्र के बच्चे

रेल में पाँच वर्ष तक के बच्चों का टिकट नहीं लगता. लेकिन पाँच वर्ष से अधिक उम्र के बच्चों का टिकट अनिवार्य है. हालांकि पाँच से बारह वर्ष तक के बच्चों के टिकट पर रेलवे विशेष छूट देती है जिसका लाभ उठाया जा सकता है. अगर कोई बच्चा बिना टिकट यात्रा कर रहा है तो उसके अभिभावकों से व्यस्क द्वारा देय किराये का आधा अथवा 250 रूपए में से जो भी ज्यादा हो वो जुर्माने के रूप में वसूला जाता है.


Read: दलालों पर लगाम लगाने के लिए रेलवे की नई मुहिम


9. साथ ले जाने वाले सामान की मात्रा का रखें ध्यान

प्रथम, द्वितीय, तृतीय, स्लीपर और सेकेंड श्रेणी के डब्बों में क्रमश: 70 किलो, 50 किलो, 40 किलो, 40 किलो और 35 किलो सामान साथ ले जाने का प्रावधान है. इससे अधिक वज़नदार सामान ले जाने पर अतिरिक्त शुल्क का भुगतान करना पड़ता है. अगर कोई बिना अतिरिक्त शुल्क का भुगतान किए यात्रा करता है तो उसे उस सामान के निर्धारित शुल्क का छह गुना अधिक जुर्माने के रूप में चुकाना पड़ सकता है.


10. छत या इंजन पर न करें यात्रा

रेल की छत, सीढ़ी या इंजन पर यात्रा करना अपराध है और इसके तहत तीन माह की जेल या पाँच  हजार रूपए जुर्माना या फिर दोनों का नुकसान उठाना पड़ सकता है.


Next…..



Read more:

रेलवे को उबारने की कोशिश

पटरी पर कैसे लौटे भारतीय रेलवे

छ्ठ पर्व के लिए क्या हैं कड़े नियम





Tags:                   

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 4.67 out of 5)
Loading ... Loading ...

6 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Amit Suthar के द्वारा
November 25, 2014

कितने ऑफिस और वर्कस गुस्स नहीं कहते होगे ykam ये काम कैसे सम्पन हो सरजी यहाँ तो सब को रुपए चाइये कोई ईमानदार कहा है रूल्स तोड़ने के लिए बनते है ऐसा कहते है आप को क्या पत्ता आप क्या कानोंn जानते हमें सिखाए गए कानोंन उसी चाकर में १ का २ होजाता है

Mistry के द्वारा
November 25, 2014

we are also agree with rules… but ….. when indian railway is not provide enough local trains for daily passengers then they are travel in Fc or travel on top of cotch … one more the main rule is dont smoke in public place but who case for that… everyone know that but every one also know that there is no one can stop them or not take fine for that….. in short and simple way i can say that if you want to follow this rules increase checking person in every train and give punishment to victim …. and this will do in each and every train as well as each and every station … then we can fill batter … as per my personal experience i note that in some of local train who is traveling without ticket they got sit but who have ticket they have to travel whole journey in standing position ……..

shivam rajbhar के द्वारा
November 25, 2014

thanks fir publishing indian railway ruls its very best news

phulsharif ansari के द्वारा
November 24, 2014

bahut acha hai

Sandeep Mendhe के द्वारा
November 24, 2014

add 1 more important thing i.e. Identity card while in Journey time..

yamunapathak के द्वारा
November 24, 2014

बेहद उपयोगी पर मुझे भारतीय रेलवे से बहुत शिकायत है पैसे खर्च कर हम जिस रेल पर यात्रा करते हैं वह सुरक्षित नहीं है AC बोगी भी नहीं


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran