blogid : 7629 postid : 919918

तूफानी रफ्तार से रिवर्स गियर में गाड़ी चलाता है ये ड्राइवर, सरकार से मिली हुई है परमिट

Posted On: 27 Jun, 2015 Others में

Nityanand Rai

  • SocialTwist Tell-a-Friend

पंजाब के हरप्रीत देव ने अपनी कार पर लिखवा रखा है बैकगियर चैंपियन. उन्होंने कार को बैकगियर में चलाने में महारथ हासिल कर ली है. वे अपनी कार को 50 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से बैकगियर में चला सकते हैं वह भी भीड़-भाड वाली सड़को पर. इस तरह कार को चलाते हुए उन्हें 11 साल हो गए हैं.


car10


एक बार उनकी कार रिवर्स गियर में फंस गई थी और उनके पास कार को ठीक कराने के लिए पैसे नहीं थे. उन्हें घर तक कार रिवर्स गियर में ही लानी पड़ी लेकिन उन्हें रिवर्स गियर में कार चलाने में इतनी सहूलियत महसूस हुई की उन्होंने अपने कार में तीन अतिरिक्त रिवर्स गियर फिट करवा लिए.


Read: बीएमडब्ल्यू कार खरीदने के लिए इतना कैश लेकर पहुंची ये महिला, दंग रह गए कर्मचारी


अब हरप्रीत जहां भी जाते हैं अपनी गाड़ी को रिवर्स गियर में ही चलाकर ले जाते हैं. वे अपनी गाड़ी को 50 किमी प्रति घंटा की रफ्तार में बैकगियर में चलाते हैं पर उनका कहना है कि बैकगियर में चलते हुए वे ज्यादा सुरक्षित महसूस करते हैं.


car 20


उन्होंने अपने कार के गियरबॉक्स को फिर से रिडिजाइन करवाया है और उसमें 4 रिवर्स गियर और एक फॉरवर्ड गियर फिट करवाया है. इसके अतिरिक्त हरप्रीत ने अपनी कार में एक साइरन भी फिट करवाया है ताकि दूसरे ड्राइवरों और पैदल चलने वाले लोगों को सावधान कर सकें. उन्होंने अपने कार के पीछे एक हेडलाईट भी लगवाया है.


Read: भाई साहब क्या यह गाड़ी चांद पर रुकेगी


हरप्रीत को सरकार ने गाड़ी को बैक गियर में चलाने की विशेष अनुमति दे रखी है. वे सप्ताह में तीन दिन बैकगियर में गाड़ी चलाने का अपना अभ्यास कर सकते हैं.


car3


2005 में हरप्रीत ने भारत और पाकिस्तान में शांति का संदेश देने के खातिर राजस्थान से पाकिस्तान के लाहौर तक गाड़ी को बैकगियर में चला कर ले गए थे. लेकिन अब 11 साल लगातार बैकगियर में गाड़ी चलाने के कारण उनकी गरदन और पीठ में दर्द होने लगा है. क्योंकि इस दौरान उन्हें लगातार पीछे देखते रहना पड़ता है. Next…


Read more:

अब उड़ने वाली गाड़ी करवाएगी आसमान की सैर !!

कुत्ते को बचाने के लिये 3 करोड़ की गाड़ी की नहीं की परवाह

पैसा, बंगला, गाड़ी… इनमें से कुछ नहीं मिलता फिर भी क्यों किसी तख्त पर बैठने से कम नहीं है ‘भारत रत्न’ कहलाना



Tags:                   

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran