blogid : 7629 postid : 892435

90 फीसदी पूरी तरह से ठीक होकर जाते हैं यहां से मरीज!

Posted On: 29 May, 2015 Others,Contest में

Chandan Roy

  • SocialTwist Tell-a-Friend

उत्तर प्रदेश के बागपत रोड स्थित गांव पांचली खुर्द में महात्मा जगदीश्वरानंद आरोग्य आश्रम है. यह कोई साधारण आश्रम नहीं है क्योंकि इस आश्रम ने लाइलाज बीमारियों से पीड़ित कई रोगियों को नई जिंदगियां दी है. यह आश्रम वर्ष-1972 से संचालित किया जा रहा है. इस आश्रम की सबसे बड़ी विशेषता यह है कि यहाँ पांच तत्वों (हवा, पानी, मिट्टी, अग्नि और धूप) से तमाम बीमारियों का उपचार किया जाता है. यह आश्रम असाध्य रोगियों के लिए आखिरी पड़ाव होता है क्योंकि जब बड़े-बड़े अस्पतालों से निरासा मिलने के बाद लोग यहां आते हैं और स्वस्थ होकर जाते हैं.


255



Read: डॉक्टर ने नहीं नर्स ने बचाया इन सात नवजात शिशु को

आश्रम में गरीबों लोगों को निशुल्क इलाज की व्यवस्था है. अन्य लोगों को एक निर्धारित शुल्क अदा करना पड़ता है. यहाँ मरीजों के लिए कई तरह के कमरों की व्यवस्था है. मरीज जिस कमरे में रहना चाहते हैं, उसका चार्ज भी उसी के हिसाब से लगता है. इस आश्रम में रोजाना का खर्च 250 से 800 रुपये तक है.



112


इस आश्रम में इलाज़ करा चुके केपी सिंह (जो गोवा में फाइनेंस का काम करते हैं) का कहना है कि वे अपने उल्टे हाथ से सीधा कान नहीं पकड़ पाते थे. केपी सिंह के हाथ का मूवमेंट खत्म हो चला था. उन्होंने गोवा से लेकर मुंबई तक कई चिकित्सकों को दिखाया पर कोई लाभ नहीं मिला. जब वे सभी जगह से हार गए तो किसी की सलाह पर पांचली खुर्द के आरोग्य आश्रम आए. वे अपनी पत्नी के साथ यहां आ गए. 21 दिनों तक चले उपचार के बाद वे अपने उल्टे हाथ से सीधा कान पकड़ने लगे. साथ ही अपने कमर के पीछे दोनों हाथ की अंगुलियों को भी छू पा रहे थे.


Read: अगर डॉक्टर मौत की खबर देना नहीं भूलता तो शायद वह जिंदा होती


एक अन्य उदाहारण बिजनौर के आदित्य वीर सिंह का है. सिंह लंबे समय से जोड़ों के दर्द से पीड़ित थे. तमाम जगह दिखा कर हार चुके सिंह ने वर्ष-2007 में आरोग्य आश्रम आए. यहां लगभग एक माह तक उनका उपचार किया गया. पूरी तरह से ठीक होने के बाद ही वे घर गए. अब पुन: कमर का दर्द ठीक कराने के लिए ही आए हैं.



25


महात्मा जगदीश्वरानंद आरोग्य आश्रम में 14 लोगों की टीम मरीजों का उपचार करती है. यहां एक साथ में 60 लोगों का उपचार करने की व्यवस्था है. यहाँ मरीजों की कतार लम्बी होती है ऐसे में लोगों को थोड़ा इंतजार करना पड़ता है. यहाँ आए मरीजों का कहना है कि यहाँ ‘देर है, लेकिन अंधेर नहीं है’. आश्रम के डॉ. काशीनाथ किरनापुरे कहते हैं कि आश्रम में हर साल 700-800 मरीज उपचार के लिए आते हैं. इसमें 90 फीसदी पूरी तरह ठीक होकर जाते हैं. 10 फीसदी वे लोग हैं, जो उपचार के कड़े नियमों का पालन नहीं कर पाते.


खैर जो भी हो लेकिन इस आश्रम द्वारा कही गई उपरोक्त बातों पर पूरी तरह से विश्वास भी नहीं किया जा सकता. मसलन कैसे कोई दावा कर सकता है कि वैज्ञनिक पद्धति से जिस चीज का इलाज संभव नहीं है उसका इलाज इस आरोग्य आश्रम में आने से हो जाएगा. Next…


Read more:

यह नौ दिन का बच्चा क्यों बना है डॉक्टरों के लिए चुनौती, पूर्व मुख्यमंत्री भी ले रही हैं रुचि

इस परिवार में हैं 50 से अधिक डॉक्टर और सिलसिला अभी जारी है

महिलाओं को वश में रखने की चमत्कारी दवा!!





Tags:                   

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran