blogid : 7629 postid : 882350

अब इस जेल में आप भी गुजार सकते हैं रातें...

Posted On: 8 May, 2015 Others में

Nityanand Rai

  • SocialTwist Tell-a-Friend

19वीं सदी में बनी इस जेल में अब आप भी राते गुजार सकते हैं. गौरतलब है कि यूनेस्को द्वारा ऑस्ट्रेलिया के इस जेल को वर्ल्ड हेरिटेज साईट का दर्जा दिया गया है. ऑस्ट्रेलिया के पश्चिमी शहर फ्रीमेंटल की इस जेल को पूरी तरह हाईटेक बनाया गया है और यह दुनियाभर से आने वाले पर्यटकों को एक अलग अनुभव कराने के लिए तैयार है.


jail


पश्चिम ऑस्ट्रेलिया में यह अकेली इमारत है जिसे विश्व विरासत स्थल का दर्जा मिला है. इस जेल को बदलकर हॉस्टल में तब्दील कर दिया गया है. दुनियाभर के टूरिस्ट अब यहां आ सकते हैं और जेल के उन कमरों में रात गुजार सकते हैं जिनमें कभी खतरनाक अपराधी रहा करते थे. पिछले महीने इस हॉस्टल में टूरिस्ट्स के लिए बुकिंग शुरू हो गई.



Read: एक ऐसा रहस्यमय शहर जहाँ जाने वाले पर्यटक कभी लौट कर नहीं आते


इस जेल की प्रवक्ता एमिली एबोट का कहना है कि, “बिल्डिंग की दीवारें, फ्लोर, खिड़कियां और सलाखें जरूर जेल जैसा अनुभव देंगी, लेकिन हॉस्टल के लिहाज से यहां रहने के लिए हर तरह की सुविधा मौजूद है.”  यह जेल कभी महिला अपाराधियों के लिए बनाई गई थी. इसे पूरे 9 महिने के मरम्मत के बाद खोला गया है.


jail 3



इस जेल की खास बात यह है कि इस जेल का निर्माण कैदियों के द्वारा ही किया गया था और बाद में ये कैदियों के रहने का ही ठिकाना बन गया. इसका निर्माण 1851 से 1859 के दौरान किया गया था. पहले इसमें कुकहाउस, बेकहाउस और लॉन्ड्री की सेवाएं मौजूद थी, लेकिन पर्थ जेल को बंद करने के लिए महिला कैदियों के लिए जगह की जरूरत थी लिहाजा, उन्हें फ्रीमेंटल जेल में शिफ्ट कर दिया गया. इसमें एक अतिरिक्त दीवार जेल को सुरक्षित करने के लिए बनाई गई.



Read: दस हजार कमरों वाला यह आलीशान होटल क्यों है 70 सालों से वीरान


इस जेल को 1991 में बंद कर दिया गया था. 1993 से 2009 तक महिला जेल वाले हिस्से को एक इंस्टीट्यूट द्वारा बच्चों को पढ़ाने के लिए इस्तेमाल किया गया. इस इमारत को 2014 में यूनेस्को ने विश्व धरोहर सूची में शामिल किया था. Next…




Read more:

आसान नहीं है होटल के इस कमरे में ठहरना !!

फाइव स्टार होटल में भरपूर ऐश की और फिर…..!!

बहुत रोचक है इस होटल में प्रवेश के नियम !!



Tags:                     

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

1 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

अभिषेक अनंत के द्वारा
May 10, 2015

धरती जैसी मेरी माँ ! अम्बर जैसे मेरे पिता ! इन दोनों के कारण ही – है आज मेरा अस्तित्व यहाँ! जब अभी नरमी की बातें आती , मैं माँ जैसा बन जाता हूँ ! जब भी कठोरता का पालन करता , पिता जी को खुद में पता हूँ ! आजीवन अविस्मृत इन दोनों की यादें , बासु कही या करू कुछ भी तो क्या ? धरती जैसी मेरी माँ ! अम्बर जैसे मेरे पिता ! इन दोनों के कारण ही – है आज मेरा अस्तित्व यहाँ!


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran