blogid : 7629 postid : 853167

यहां अपने भाई के लिए दुल्हा बनकर बहन करती है दुल्हन से शादी

Posted On: 16 Feb, 2015 Infotainment में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

शिमला, कुल्लू और मनाली वाला हिमाचल प्रदेश अपनी प्रकृतिक छटा के लिए तो विख्यात है ही, यहाँ के कुछ वैवाहिक रिवाज भी अनोखे हैं. इन वैवाहिक रिवाजों ने हिमाचल प्रदेश के कुछ क्षेत्रों की अलग पहचान गढ़ी है. हमारे देश के अन्य राज्यों में भी शादी के कई अनोखे रिवाज हैं जिसमें भाषा और भौगोलिकता के आधार पर अंतर आ जाता है. लेकिन शादी के जिस रिवाज के बारे में आप पढ़ने जा रहे हैं, वह उन रिवाजों की सूची में शामिल है जिसके बारे में शायद आपने कभी नहीं पढ़ा होगा!

Untitled


हिमाचल प्रदेश में लाहौल-स्पिति नामक इस जिले में लड़की-लड़की की शादी की अनूठी परम्परा है. अमूमन विवाह में यही होता है कि शादी तय हो जाने के बाद नियत तिथि व समय पर वर-वधू एक साथ मंडप में बैठ साथ जीने-मरने की प्रतिज्ञा करते हैं. वर अथवा वधू के न होने पर शादी रोक दी जाती है. लेकिन यहाँ ऐसी समस्याओं से निपटने का आसान तरीका व्यवहार में है. अपनी ही शादी में वर के किसी वजह से मंडप में उपस्थित नहीं होने पर यहाँ शादी रोकी नहीं जाती.


Read: शादी से पहले मां बनो, तभी होगा विवाह !!


परम्परा यह है कि अगर दूल्हा अपनी ही शादी के दिन अनुपस्थित रहता है तो उसकी जगह उसकी बहन सज-सँवर दूल्हे का वेश धारण कर मंडप में पहुँचती है. वहाँ वर के रूप में वह भाई द्वारा निभाये जाने वाली सारी रस्मों को पूरा कर अपनी भाभी को साथ लेकर अपने घर आ जाती है. सिर्फ यही नहीं, अगर दूल्हे की कोई बहन नहीं है तो उसका भाई अपने ही भाई की जगह मंडप में बैठता है और अपनी भाभी को ब्याह कर साथ लाता है.


Read: शादी के तुरंत बाद क्यों नव विवाहित जोड़ों को पेड़ से बांध दिया जाता है?


लाहौल-स्पिति की वर्षों पुरानी यह परम्परा आज भी कायम है.  यहाँ शादी के वक्त अपने भाई के स्थान पर बहन को दूल्हा बनते देखा जाना आम बात है. इस परम्परा के पीछे कोई विशेष तर्क नजर नहीं आता है. सम्भव है कि शुभ-मुहुर्त बीत जाने के भय से ऐसा किया जाता हो!Next….


Read more:

क्यों महिलायें लगाती है शादी के समय इत्र…..जानिये 16 श्रृंगारों का है पौराणिक महत्व

ये हैं वो बॉलीवुड अदाकारा जो शादी से पहले हुई गर्भवती और फिर कर ली गुपचुप शादी

क्या है जीसस क्राइस्ट के रहस्यमयी विवाह की हकीकत, इतिहास के पन्नों में दर्ज एक विवादस्पद घटना




Tags:                       

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

1 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Munish Sharma के द्वारा
February 16, 2015

Yeh Riwaz Jammu Pradesh ki Bhardwaj Brahman Biradiri mein bhi parchalit hain. Magar Jammu mein Dulhan aur uski Nanad ki Shaadi Vivah ke baad ek Partik ke taur pe hoti hain.


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran