blogid : 7629 postid : 846165

क्या इन विज्ञापनों को देखकर आपको लगा ‘कौनो हमार फिरकी ले रहा है’?

Posted On: 3 Feb, 2015 हास्य व्यंग में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

टेलीविजन संचार का सशक्त माध्यम है. यह दर्शकों के कानों को ही नहीं आँखों को भी अपने पर टिकाए रखने को मजबूर करने की क्षमता रखती है. आज टेलीविजन पर विज्ञापनों की बाढ़ आई हुई है. इस बाढ़ में कई विज्ञापन ऐसे होते हैं जो अटपटे, अधूरे और अतार्किक होते हैं. विज्ञापनों की बाढ़ से इन्हें आसानी से अलग किया जा सकता है. ऐसे ही कुछ विज्ञापन नीचे दिए जा रहे हैं जिन्हें देखकर आप कह सकते हैं कि ‘कौनो हमार फिरकी ले रहा है!’


नंबर 1 कार



car 1


विज्ञापनों में दिखने वाली सारी कारें अपने आप को भारत की नंबर 1 कार बताती है. ये ठीक वैसे ही है जैसे गोविंदा की कोई नंबर 1 की फिल्म श्रृंखला हो. मसलन ‘जोड़ी नं 1, ‘हीरो नं 1, कुली नं 1.’ सारी कारों का नंबर 1 होना फिरकी नं 1 है.



Read: पंख भले न उगे पर कैश पाएंगे इस एनर्जी ड्रिंक को पीने वाले


अत्यधिक सफेद दाँत



Teeth


बेहद सफेद दाँत दिखाने वाले विज्ञापन कई लोगों की भावनाओं को आहत करते हैं. उसमें भी अगर व्यक्ति पान, खैनी, गुटखा आदि का सेवन करता हो तो उनके लिए ये विज्ञापन कुछ वैसा ही होता है जैसे हाथ में बताशा होते हुए काजू की बर्फी की कल्पना करना.



परफ्यूम के विज्ञापन –लड़कों की चाँदी



deo


अगर पढ़ने-लिखने वाले लड़कों को लगता है कि लड़कियों को अपने ज्ञान और बुद्धिमता से प्रभावित किया जा सकता है तो परफ्यूम और डियो के ये विज्ञापन उनके अरमानों पर दर्जनों गैलन पानी उड़ेलने के लिए काफी है!  ये विज्ञापन बताते हैं कि लड़कियों को आकर्षित करने के लिए हुनर और कौशल की नहीं बल्कि केवल डियो और परफ्यूम की जरूरत होती है.



Read: अब डियो के विज्ञापनों पर रोक


दरवाज़ा बंद करके लोग ब्रश करने लगे हैं



tv reporter


आजकल लोग भयभीत होकर मुँह की सफाई करते हैं. ऐसा करने से पहले वो अपने नहाने वाले घर के दरवाज़े की कुंडी को लगाते हैं और दो-तीन बार यह सुनिश्चित करते हैं कि वो ठीक से लगी है या नहीं! कारण कि उन्हें लगता है कि कोई टीवी पत्रकार अपने कैमरामैन के साथ उनके घर में न घुस आए और उनके पेस्ट के बारे में न पूछ बैठें!



दमकते चेहरे से करें नौकरी पक्की



fair n luvly


भारतीय टेलीविजन चैनलों पर चेहरे की चमक बढ़ाने के लिए क्रीम का प्रचार ऐसे किया जाता है जैसे केवल चेहरे की चमक-दमक से ही उम्मीदवारों की नौकरी पक्की! अगर ऐसा होता है तो लोगों की अच्छी शिक्षा की जरूरत ही खत्म हो जाती है. चेहरे की चमक से नौकरी मिलने का सबसे बड़ा घाटा निजी कोचिंग संस्थानों को होगा! Next…


Read more:

सचिन, संन्यास और बाजार

युवाओं को भटकाते हैं अश्लील विज्ञापन

अपना क्या हाल बना लिया बॉलीवुड के इस बड़े सेलिब्रिटी ने




Tags:                                           

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran