blogid : 7629 postid : 840822

उस जमाने में भी ताजमहल के कारीगरों को मिला था इतना पैसा

Posted On: 23 Jan, 2015 Others में

Nityanand Rai

  • SocialTwist Tell-a-Friend


ताजमहल के निर्माण को लेकर कई किंवदंतियां प्रचलित हैं, कुछ सकारात्मक तो बहुत कुछ नकारात्मक भी. यह किंवदंतियां चाहे कुछ भी कहें पर इस बात से किसी को इंकार नहीं हो सकता कि मुहब्बत का मिशाल ताज दुनियाभर की मानव निर्मित सबसे खूबसूरत रचनाओं में एक है. शायद यही वजह है कि भारत आने वाला कोई भी गणमान्य व्यक्ति ताजमहल का एकबार दीदार करने का अपना मोह छोड़ नहीं पाता फिर वह अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ही क्यों न हो.


Tajmahal


मुमकिन है कि ओबामा को भी ताजमहल की खूबसूरती भौचक्का कर दे और उन्हें इस निर्माण के पीछे के व्यक्ति उसके जुनून का ख्याल तक न आए. सब जानते हैं कि अपनी बेगम मुमताज की याद में मुगल  शहंशाह शाहजहां ने ताजमहल बनवाया. पर क्या आपको पता है कि इस खूबसूरत इमारत को बनाने के लिए शाहजहां को क्या-क्या कुर्बानियां देनी पड़ीं.


Read: प्रेम की निशानी ताजमहल से जुड़े कुछ अद्भुत और रोचक तथ्य


दुनिया के सात अजूबों में से एक ताजमहल को बनाने में सिर्फ सिविल इंजीनियरिंग ही नहीं, बल्कि शाहजहां के जुनून का भी बहुत बड़ा हाथ था. जानकारों का मानना है कि ताजमहल बनाने के जुनून में शाहजहां ने अपने सारे शौक त्याग दिए थे. उन्होंने ताजमहल के निर्माण में लगे मजदूरों और कारिगरोंं को तब के मेहनताने से पांच गुना अधिक मेहनताना दिया था.


taj-mahal-tomb-inside


ताजमहल को बनाने के लिए बीस हजार मजदूरों की सेवा ली गई. इन मजदूरों की 22 साल की अथक मेहनत से यह अजूबा बनकर तैयार हुआ. ताजमहल बनाने के लिए जिन विशेषज्ञों को पर्शिया से बुलाया गया उन्हें आज से लगभग 361 साल पहले पंद्रह सौ रुपए प्रतिमाह के मासिक मेहनताने पर रखा गया जो उस समय के मेहनताने से कहीं ज्यादा था. यही नहीं मजदूरों को भी उस समय दिए जाने वाले मेहनताने से 5 गुना ज्यादा पैसे दिए थे जो उनकी मुंहमांगी कीमत के बराबर थे. सबसे निचले तबके के कारीगरों का भी मेहनताना उस समय दिए जाने वाले मेहनताने से औसतन पांच से दस गुना ज्यादा था.


Read: पेरिस में नाश्ता, लंदन में लंच और सिडनी में डिनर और रात को करिए ताजमहल का दीदार… हां इस शहर में यह सब मुमकिन है


शाहजहां की सोच थी कि जब कारीगरों को उनके कौशल के लिए सही दाम दिया जाएगा तो वे जुनून होकर काम करेंगे और उसका असर उसके परिणाम में भी साफ नजर आता है. उस समय इस खूबसूरत इमारत को बनाने की लागत 4 करोड़ 11 लाख 48 हजार रूपए आई थी. ताजमहल को बनवाने का शाहजहां का जुनून कुछ ऐसा था कि उन्होंने अपने सारे शौक त्याग दिए थे.. Next…


Read more:

चलो दीदार करें ताज का

एक स्त्री के मोह में आकर इस मुगल शहंशाह ने उसके पति को ही मार डाला और फिर किया उससे निकाह, जानिए कौन है यह शहंशाह

मरने के बाद वो उसकी लाश के साथ रहता था !!




Tags:                               

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran