blogid : 7629 postid : 828526

दस हजार कमरों वाला यह आलीशान होटल क्यों है 70 सालों से वीरान

Posted On: 5 Jan, 2015 Others में

Nityanand Rai

  • SocialTwist Tell-a-Friend

इसके निर्माणकर्ताओं ने कभी सोचा भी नहीं होगा कि जिस विशालकाय और आलीशान होटल का वे निर्माण कर रहें हैं उसकी नियती विरान रहने की है. 4 किलोमीटर की लंबाई में फैले इस 10,000 कमरों के होटल को बनाने में 9 हजार मजदूरों ने लगातार 3 साल तक अथक परिश्रम किया. लेकिन पिछले 70 सालों से यह होटल वीरान पड़ा है.


prora-resort-in-germany_26



यूरोप में बाल्टिक सागर के किनारे स्थित इस होटल का नाम है द् प्रोरा होटल. इसका निर्माण जर्मनी के नाजी शासन के दौरान रूगेन आइलैंड में करवाया गया था. 30 के दशक बाद जर्मनी में नाजियों ने एक प्रोग्राम ‘स्ट्रैन्थ थ्रु ज्वॉय’ के तहत विशाल परिसर तैयार कराने का विचार किया. इसे प्रोरा ‘द कॉलोसस’ कहा गया जिसका शाब्दिक अर्थ होता है झाड़ क्षेत्र या मरूभूमि.


Read: ये तरीकें आपके पहले डेट को बना देंगे परफेक्ट


4 किलोमीटर लंबे इस परिसर को देखकर यह अंदाजा नहीं होता कि यह एक होटल है. बाल्टिक सागर से मात्र 150 मीटर की दूरी पर स्थित इस पूरे होटल में एक जैसी 8 बिल्डिंग बनार्इ गर्इ है. यहां एक समान चार रिजॉर्ट बनाए गए हैं और हर रिजॉर्ट में सिनेमाघर है. सभी बिल्डिंग में फेस्टिवल हॉल की भी व्यवस्था है. कपल्स के लिए स्विमिंग पूल और बिजनेस के लिए क्रूज शिप के भी आने की व्यवस्था कि गई थी. आइलैंड के स्थानीय लोगों के लिए पहली बार इतना कुछ होना हैरतअंगेज था. स्थानीय लोग यह भूलकर कि इस निर्माण से  नाजीवाद के प्रसार में मदद मिलेगी, इस बंजर भूमि पर यह विशालकाय ढांचा खड़ा करने के लिए राजी हो गए.



prora-hotel-in-germany_pics-no-1



इस होटल को लेकर नाजियों के चीफ एडोल्फ हिटलर न बड़े सपने देखे थे. हिटलर की चाहत थी कि एक घुमावदार समुद्री रिजॉर्ट बनाया जाए जो बड़ा तो हो ही विश्व में सबसे अनूठा भी साबित हो. उनकी प्लानिंग थी कि बिल्डिंग में 20 हजार से भी अधिक बिस्तर हों. हर कमरे में ग्लासेज लगें जिससे बाल्टिक सी का नजारा देखा जा सके. प्रोरा रिजॉर्ट में हर रूम 5 x 2.5 मीटर का है. एक-एक कमरे में दो बेड़, एक अलमीरा और एक सिंक बनाए गए. इसके अलावा प्रत्येक फ्लोर में शॉवर, बॉलरूम और टॉयलेट्स ग्रुप मेक किए गए. बिल्डिंग के बीच-बीचों यह सुविधा थी कि युद्घ या इमरजेंसी में यहां अस्पताल बन जाए.


Read: बछड़े के रूप में भगवान शिव का अवतार…दर्शन करने दूर-दूर से पहुंच रहे हैं लोग


प्रोरा रिसोर्ट की बिल्डिंग बनने के पश्चात़ रेजीडेंसी फैसिलिटी लागू हुर्इं, लेकिन इसमें खाने का लुत्फ लेने की उम्मीदें तब हवा हो गर्इं जब सैकेंड वर्ल्ड वार में जर्मनी हार गया. हिटलर ने हजारों कर्मचारियों को पीनमंडे वेपन प्लान्ट भेज दिया. जहां उन्हें हथियार विकसित करने का काम मिला और अंतिम बार मित्र देशों द्वारा की गई बमबारी में हमबर्ग से विस्थापित लोगों ने यहां शरण ली थी. Next…

Read more:

अपने अविष्कारों से इन महान वैज्ञानिकों ने गढ़ी अपनी ही मौत की कहानी

ये वह फिल्म थी जहां से हिंदी फिल्म में किसिंग सीन की शुरुआत हुई

भारतीय इतिहास के इन अद्भुत तथ्यों को जान लेने के बाद सचमुच आप गौरवान्वित महसूस करेंगे



Tags:                             

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 1.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran