blogid : 7629 postid : 809742

उसकी सिंध पर जीत के बाद मुसलमान पहली बार भारत की धरती पर पाँव जमा पाए

Posted On: 28 Nov, 2014 Infotainment में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

इतिहास ऐसी कई कहानियों से भरी पड़ी है जिसमें कौमार्य भंग करने वालों को मौत की सजा मिली है चाहे वो कितने बड़े पद पर क्यों न बैठे हों. एक तुर्क सेनापति जिसने सिंध जैसे शक्तिशाली राज्य पर हमला कर उसे अपने अधीन कर लिया. लेकिन बस एक गलती के कारण उसकी जीतों को नजरअंदाज कर दिया गया और उसे अपनी जान देनी पड़ी. पढ़िए एक सेनापति की ऐसी ही रोचक कहानी.



bin kasim



अरब सिंध को जीतने में एक बार नाकामयाब हो गए थे. लेकिन वो सिंध को किसी भी हालत में जीतना चाहते थे. उस समय सिंध का राजा दाहिर था. एक बार श्रीलंका से इराक जाते वक्त एक समुद्री जहाज़ को लूट लिया गया जिसमें कुछ मुसलमान महिलाएँ यात्रा कर रही थी. इस पर इराक के गवर्नर हज्जाज ने राजा दाहिर को संदेश भेजा कि वो इन लुटेरों को सज़ा दें. लेकिन दाहिर ने ऐसा करने से मना कर दिया. हज्जाज क्रोधित हो गया और उसने अपने एक सेनापति को सिंध पर आक्रमण करने के लिए भेजा. किंतु दाहिर के सामने वह टिक न सका. तब हज्जाज ने एक अन्य सेनापति को सिंध पर आक्रमण के लिए भेजा. लेकिन दाहिर के पुत्र ने उसे युद्ध में मार दिया.


Read: जब नेपोलियन ने मिस्र के राजा फराओ की कब्र में गुजारी रात…


अपने दो सेनापतियों की हार पर हज्जाज गुस्से से आगबबूला हो गया. उसने एक शक्तिशाली सेना का गठन किया और अपने दामाद मुहम्मद बिन कासिम के नेतृत्व में उसे सिंध पर विजय प्राप्त करने के लिए भेजा. मुहम्मद बिन कासिम यह जानता था कि राजा दाहिर को सीधे युद्ध में नहीं हराया जा सकता. इसलिए उसने दाहिर से सीधे लड़ने के बजाय उसके विरोधियों को अपने साथ मिला लिया. देवल में मुहम्मद बिन कासिम का सामना दाहिर के भतीजे से हुआ. कासिम उसे हराने में सफल नहीं हो पा रहा था. लेकिन किसी व्यक्ति के द्वारा उसे राज्य के कुछ गुप्त रहस्य बताए जाने के कारण उसने देवल की वह युद्ध जीत ली.


raja dahir



सिंध में कासिम का सामना दाहिर से हुआ. लेकिन युद्ध करते समय सीने में तीर लग जाने के कारण दाहिर की मृत्यु हो गई. दाहिर के मरने के बाद उसकी स्त्रियों ने वीरतापूर्वक कासिम का सामना किया लेकिन अंत में अपने को असफल होते देख उन्होंने आग में कूदकर अपनी जान दे दी. अब सिंध और मुल्तान पर मुहम्मद बिन कासिम ने अधिकार जमा लिया. अपनी जीत के बाद कासिम ने उपहार के तौर पर दाहिर की दो पुत्रियों को खलीफ़ा सुलेमान के पास भेजा. लेकिन दोनों ने खलीफ़ा से कासिम की शिकायत करते हुए कहा कि उसने(कासिम ने) पहले से ही उनका कौमार्य भंग कर दिया है.


Read: आधुनिक भारतीय समाज के जन्मदाता राजा राममोहन राय


इसे अपना अपमान समझ खलीफ़ा गुस्से में आ गया और उसने मुहम्मद बिन कासिम को मृत्युदंड दिया. इस प्रकार सिंध पर जीत हासिल करने के बाद भी वो सेनापति स्त्रियों का कौमार्य भंग करने के कारण मौत के घाट उतार दिया गया. माना जाता है कि मुहम्मद बिन कासिम की इन महत्तवपूर्ण विजयों के कारण ही मुसलमान पहली बार भारत की धरती पर पाँव जमाने में सफल रहे. Next…..



Read more:

बचकर रहना इस राजा की नजर काली है !!

महाभारत ,गाय और राजा रन्तिदेव :एक और इस्लामिक कम्युनिस्ट कुटिलता

छठ पर्व मनाने के लिए प्रेरित करती हैं ये पौराणिक कहानियाँ




Tags:                         

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

2 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

ANAND SHARMA के द्वारा
November 29, 2014

प्राचीन काल की ज्योतिष गणना के अनुसार, सतयुग से द्वापर और त्रेता से चतुर्युग के आरम्भ तक, सांस्कृतिक एवं भूगौलिक भारत में [[?]], स्वतंत्र राजाओं के भिन्न भिन्न राज्य, अथवा देश थे..!! यथा, मिथिला, काशी, कौसल, केकय यानि कश्मीर, सिंधु, सौबीर, सौराष्ट्र, विशाला, अंग, बंग, मगध, मतस्य यानि राजस्थान, हिमालय और विंध्य पर्वत के मध्य का भूभाग, तब आर्यावर्त कहलाता था..? ध्यान दें, कि तब सिंध प्रान्त के आक्रमण को, सिंध देश या सिंध राज्य पर आक्रमण की संज्ञा दी जा सकती है..? ना कि, भारत की धरती पर पहले आक्रमण की..?

mohd aslam के द्वारा
November 28, 2014

गलत.ह  ै


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran