blogid : 7629 postid : 799511

मरे हुए परिजनों के कब्र पर रहते हैं इस गांव के लोग

Posted On: 4 Nov, 2014 Infotainment में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

बर्तन, चूल्हा, कपड़े, मिट्टी की कोठी आदि ऐसी चीज़ें हैं जो हर घर में आसानी से मिल जाती है. लेकिन क्या घर में कब्र हो सकती है? हाँ कब्र! जिसमें अपने प्रियजन का शव दफनाया जाता है. भारत में एक गाँव ऐसा भी है जिसके लगभग हर घर में कब्र है. पढ़िए कौन सा गाँव है वो….


M_Id_433711_Graveyard



उत्तर प्रदेश में इटावा से 35 किलोमीटर दूर एक गाँव है. इस गाँव में तकिया नाम का एक इलाका है. चकरनगर गाँव के इस इलाके में घर में जरूरी सामानों के अलावा जो एक और चीज देखने को मिलती है वो है कब्र. यह कोई परम्परा नहीं है. यहाँ ग्रामीण अपने कमरे में ही शवों को दफनाने और उनकी कब्र बनाने को मज़बूर है. उनकी मज़बूरी की वज़ह गाँव में कब्रिस्तान का न होना है.


Read: लोगों की सभा होने पर इस गांव में पेड़ों से झड़ने लगते हैं पत्ते


इटावा उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव का पैतृक जिला भी है. जिला प्रशासन के अनुसार ग्रामीणों को कब्रिस्तान के लिए वहाँ से डेढ़ किलोमीटर दूर पड़ोसी गाँव में शवों को दफनाने के लिए जमीन मुहैया कराई गई थी लेकिन वो वहाँ शवों को दफनाना नहीं चाहते.



28etwp14_273111783



वो चाहते हैं कि उन्हें गाँव में ही कब्रिस्तान की जमीन उपलब्ध कराई जाय. पर प्रशासनिक दिक्कतों और ज़मीन के अभाव के कारण ये सम्भव नहीं हो पा रहा है. हालांकि कुछ ग्रामीण राज़ी हो गए हैं. लेकिन कुछ, इस्लामिक मान्यताओं के कारण ऐसा नहीं कर रहे हैं. इस्लाम में विशेष परिस्थितियों में ही शवों को स्थानांतरित करने की इजाजत है.


Read: बौनों के इस गांव में वर्जित है आपका जाना


इटावा जिले के रहने वाले रहीम खान कहते हैं कि तकिया इलाके के कई घरों में कब्र बने हुए हैं. यहाँ करीब ढ़ाई सौ मुसलमान रहते हैं जो अपने घर में ही कब्र बनाकर रहने और दैनिक क्रियाओं को करने के लिए मज़बूर हैं.


Read more:

इस मेले का उद्घाटन करने वाले नेता हार जाते हैं चुनाव

एक मंदिर जहाँ बहती है घी की नदी

पेड़ पर ही लटकती रहती है उसकी लाश



Tags:         

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran