blogid : 7629 postid : 1148

विज्ञान ने भी माना धरती पर जन्में थे भगवान राम !!

Posted On: 30 Oct, 2014 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

विज्ञान और पौराणिक कथाओं का रिश्ता हमेशा से ही सच और झूठ का रहा है. जिन तथ्यों और घटनाओं को धर्म अपना आश्रय प्रदान करता है उन्हें विज्ञान मानने से इंकार कर देता है. वहीं विज्ञान जिन अविश्वसनीय घटनाओं को आधार प्रदान करता है वह धर्म की सीमा में कभी बंध नहीं पातीं. पौराणिक चरित्रों और घटनाओं को धार्मिक दृष्टिकोण से देखा जाए तो यह बेहद महत्वपूर्ण होती हैं लेकिन अगर आधुनिक विज्ञान की मानी जाए तो वह इन्हें मानना तो क्या इनके होने पर भी हमेशा संदेह ही रखता है.


lord rama


अब हिंदू धर्म, जिसमें अवतारवाद और चमत्कारों की अवधारणा को पूरी तरह स्वीकार किया गया है, के अनुसार भगवान राम का जन्म राक्षसों के विनाश के लिए भगवान विष्णु के अवतार के रूप में हुआ था. लेकिन अगर इस मसले पर विज्ञान का पक्ष देखा जाए तो वह अब तक भगवान राम के होने और उनका राक्षसों का विनाश करने जैसी मान्यताओं को पूरी तरह नकारता ही प्रतीत होता है.


Read: किस गर्भवती ने दिया था सीता को राम से वियोग का श्राप


भगवान राम के अस्तित्व को लेकर वैज्ञानिक और धार्मिक विशेषज्ञों में समय-समय पर मतभेद होते रहे हैं परंतु अब लगता है विज्ञान ने भी अयोध्या में राजा दशरथ के घर भगवान राम के जन्म लेने जैसी घटनाओं को अपनी स्वीकृति प्रदान कर दी है.


rama


दिल्ली के इंस्टीट्यूट फॉर साइंटिफिक रिसर्च ऑन वेदाज (आइ-सर्व) के शोधकर्ताओं ने त्रेता युग में जन्म लेने वाले भगवान राम के जन्म की सटीक तिथि पता लगाने में सफलता हासिल की है. इतना ही नहीं संस्थान ने इसे वैज्ञानिक आधार प्रदान करने का भी दावा किया है. इस संस्थान की निदेशक डॉ. सरोज बाला ने यह दावा किया है कि उन्होंने अपने सहयोगियों और प्लैनेटेरियम सॉफ्टवेयर की सहायता के भगवान राम की जन्म की तारीख पता कर ली है जिससे उनके धरती पर जन्म लेने की पुष्टि हुई है.


Read: पत्थर में बदला कुत्ता, इस युग के राम आए उद्धार करने के लिए


सरोज बाला के अनुसार प्रभु राम का जन्म 10 जनवरी, 5014 ईसा पूर्व अर्थात आज से सात हजार, 122 वर्ष पहले हुआ था. उनका जन्म चैत्र माह और शुक्ल पक्ष नवमीं के दिन हुआ था. इतना ही नहीं उनकी टीम ने भगवान राम के जन्म का समय भी खोज निकाला है जो दोपहर 12 से 2 बजे के बीच का था.


rama and sita


सरोज बाला का कहना है कि आगामी भविष्य में भी वे अन्य पौराणिक चरित्रों और घटनाओं की सत्यता और अस्तित्व के बारे में पता लगाएंगे. उल्लेखनीय है कि प्लैनेटेरियम सॉफ्टवेयर का प्रयोग नासा और नेहरू प्लैनेटेरियम द्वारा विभिन्न ग्रहों की स्थिति का पता लगाने के लिए किया जाता है.


आइ-सर्व के वैज्ञानिकों के अनुसार वह भगवान राम के जीवन में हुई महत्वपूर्ण घटनाओं जैसे उनका विवाह, वनवास, रावण-वध आदि के पीछे की सच्चाई का पता भी लगाने का प्रयास कर रहे हैं.


अब अगर भगवान राम के अस्तित्व को वैज्ञानिक तौर पर प्रमाणित कर दिया गया है तो बहुत हद तक मुमकिन है कि रामसेतु, जिसे पौराणिक कथाओं के अनुसार तो लंका तक पहुंचने के लिए भगवान राम और उनकी सेना द्वारा बनाया गया मार्ग माना जाता है और विज्ञान इसे मानव निर्मित ही नहीं मानता, को टूटने से बचाया जा सके. क्योंकि अभी तक तो इसे सेतु समुद्रम प्रोजेक्ट के तहत तोड़ने की योजना बनाई जा रही है.

Read:

क्या था वो श्राप जिसकी वजह से सीता की अनुमति के बिना उनका स्पर्श नहीं कर पाया रावण?


एक अप्सरा के पुत्र थे हनुमान पर फिर भी लोग उन्हें वानरी की संतान कहते हैं….जानिए पुराणों में छिपे इस अद्भुत रहस्य को


कुरूप दिखने वाली मंथरा किसी समय बुद्धिमान और अतिसुंदर राजकुमारी थी



Tags:                   

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

2 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

rameshagarwal के द्वारा
February 24, 2015

जय श्री राम पुरानो के इसाब से रामजी करीब १० लाख साल पैदा हुए.इस तरह के ग्रहों का संजोग  और पीछे जाकर देना चाइये.करीब ५१०० पहले भगवन कृष्णाजी ने अवतार लिया था सो इतनी जल्दे अवतार नहीं होते.विज्ञानं को हमारे धरम के बारे में ५% ही मालूम है.

chaatak के द्वारा
September 1, 2012

स्वीकारना ही होगा, और जितनी जल्दी स्वीकार कर लिया जाय अच्छा है क्योंकि सत्य और तथ्य आज नहीं तो कल प्रकट होते ही हैं|


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran