blogid : 7629 postid : 794845

90 के दशक में दिल्ली में कुछ यूं बीतते थे हमारे दिन और शाम

Posted On: 18 Oct, 2014 Infotainment में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

80  और 90 के दशक वाली दिल्ली का रंग-रोगन हो चुका है. साँझ ढ़ल चुकी है. वो साँझ जिसमें सूर्य ढ़लने पर पिताजी के स्कूटर पर बैठ क्वालिटी की आईसक्रीम खाने इंडिया गेट के दरवा़ज़े को खटखटाने पहुँच जाया करते थे. वो साँझ जिसमें एनसीआर और मैट्रो का नामोनिशाँ न था. वो साँझ भी अब मयस्सर नहीं जब दोस्तों के साथ मस्ती करने के लिए पिताजी से उनके स्कूटर की चिरौड़ी करनी पड़ती थी. अगर आपको भी आती है याद उस समय की तो हम आपको ले जा रहे हैं उन दिनों और साँझों के छाया तले…..




double-decker-delhi_1413275317_540x540



वो समय था सड़कों पर डबल-डेकर बसों का. हालांकि उनकी संख्या कम थी जो बमुश्किल बस पड़ावों पर रूकती थी. पर किसी बस के मिल जाने पर उसके प्रथम तल पर चढ़ना और शहर को ऊँचाई से देखना कितना रोमांचकारी होता था.




wimpy_1413283828_540x540

Read:

सीपी जाकर विम्पी में बर्गर खाना….अहो…मज़ेदार.




hcf_1413283895_540x540



पूरी बाज़ार छान लेने के बाद निरुला की गर्म चॉकलेट खाना तो आदत सी थी.




90529008_1413276498_540x540



प्रगति मैदान का ‘अप्पू घर’ और ‘माय फेयर डेली राइड्स’ क्या कभी भुलाया जा सकता है? जनाब, ‘क्रिस्टोफर कोलम्बस’ तो नहीं भूल गए ना आप?




81988688_1413277036_540x540



सप्ताहांत में इंडिया गेट पर जाना और वहाँ ‘’क्वालिटी’’ या ‘’गेलॉर्ड’’ की आईसक्रीम खाना तो जैसे अनिवार्य था. किसी वजह से ऐसा नहीं करने पर अगला दिन सूना-सूना सा लगता था.




8760_1413277747_540x540




पिकनिक और नौकायन के लिए क्या उस वक्त पुराना किला से मनपसंद जगह कोई थी?




phat-phatti_1413278123_540x540



बहुत शोर करने पर भी सीपी से चाँदनी चौक तक फटफटिया की सवारी कितनी मज़ेदार होती थी!



national-zoo-sign1_1413278727_540x540




विद्यालय में अवकाश रहने पर दिल्ली ज़ू देखने जाना तो महीनों पहले से तय हो जाता था.




railway-museum_1413281339_540x540




रेलवे संग्रहालय में तस्वीर और तस्वीरें खींचना तो बनता ही था बॉस!




palika-bazar_1413281841_540x540




पाइरेटेड सीडी के लिए पालिका बाज़ार और नेहरू प्लेस से बेहतर कोई विकल्प न होता था.



mahipalpur_1413286100_540x540




ऑनलाइन शॉपिंग के प्रचलन में न होने के कारण दोस्तों के बीच महिपालपुर में ठंड के सबसे सस्ते कपड़ों के मिलने का शर्त लगाया जाता था.




lodhi-garden-2_1413356415_1413356429_540x540



विद्यालय प्रशासन पिकनिक पर बच्चों को दो जगहों पर तो ले ही जाता था. एक तो लोधी गॉर्डन और दूसरा बुद्ध जयंती पार्क.

अगर आपको लगता है कि 90 के दशक की दिल्ली के बारे में हम भूल रहे हैं कुछ, तो आप अपनी राय देकर उस कमी को पूरा कर सकते हैं.



Tags:                       

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 2.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

2 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Dhiraj Shukla के द्वारा
October 20, 2014

साल के 3 महीने लाल किले के सामने जैमिनी सर्कस का लगना, रिक्शे वालो का ट्रांगिस्टर प्रेम और दिल्ली की सबसे ऊँची बिल्डिंग आई.टी.ओ पर बनते हुए देखना :)

peeyush के द्वारा
October 18, 2014

thanks , mazaa aa gya purani 90 ke delhi ke yaad taaza karake


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran