blogid : 7629 postid : 785767

क्या होगा यदि एक डॉलर हो जाए एक रुपये के बराबर? क्या आप अंदाजा भी लगा सकते हैं इतने बड़े बदलाव का?

Posted On: 17 Sep, 2014 Infotainment में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

अमेरिकी डॉलर व भारतीय मुद्रा के बीच पिछले कितने ही समय से उतार-चढ़ाव चल रहा है जिसमें ज्यादातर डॉलर के दिन प्रतिदिन महंगा होने के ही संकेत मिलते हैं. ऐसे में भारत में महंगाई नए आसमान चूम रही है जिसका भारतीय अर्थव्यवस्था पर खासा असर पड़ा है. इसके चलते जो भारतीय विदेश में काम कर रहे हैं उन्हें तो फिलहाल फायदा हो रहा है क्योंकि एक डॉलर जब रुपये में बदला जाता है तो उसकी मात्रा काफी बढ़ जाती है. लेकिन वहीं भारत को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर होने वाले आयात में नुकसान झेलना पड़ रहा है.


rupee


यदि ऐसा हो जाए तो?


यह तो थी वे बातें जब डॉलर राजा बनकर भारतीय रुपये पर राज कर रहा है, लेकिन यदि किसी दिन रुपया राजा बन गया तो? हमारे कहने का मतलब है कि ऐसा भी हो सकता है कि रातों रात डॉलर के दाम इतने गिर जाएं कि एक डॉलर एक रुपये में मिलने लगे. यह बात कुछ अजीब व काफी हद तक असंभव भी लगती है लेकिन फिर भी पूर्ण रूप से असंभव नहीं है.

rupee-dollar-relation


Read More: 5 तकनीक जिनके प्रयोग से आप किसी से भी कुछ भी करवा सकते हैं


मान लीजिए कि यह अनहोनी भी किसी दिन घट जाए, और एक ही दिन या एक ही रात के अंदर-अंदर बाजार में कुछ ऐसी खलबली मच जाए तो क्या होगा, कभी आपने सोचा है? ऐसे में एक बात तो साफ है कि जो समस्याएं भारत को रुपये के गिरने से सहनी पड़ती हैं वही समस्याएं अमेरिका को भी आवश्य होंगी, लेकिन इसके साथ भी कितने ही तथ्य जुड़े हैं, आईये जानते हैं कुछ अहम बातें:


यह सब हो जाएगा सस्ता


आज भारत में ना जाने कितना ही सामान विदेश से आता है जिसे पाने के लिए भारतीय हजारों, लाखों, करोड़ों रुपये खर्च करते हैं और यह सब केवल रुपये के कमजोर होने के कारण. यदि यही रुपया डॉलर के मुकाबले में ताकतवर हो जाए तो कितनी ही चीजें हमें इतनी सस्ती मिलेंगी जिसके बारे में हमने कभी सोचा भी ना हो.


FeaturedImage


कुछ प्रोडक्ट जैसे कि मोबाइल, टीवी, महंगी गाड़ियां, गैजेट्स, महंगी तकनीकें, उच्च सॉफ्टवेयर, और वो सभी चीजें जो आज हमें आग के भाव मिलती हैं, वो सब हमें काफी सस्ती मिल सकती हैं.


तो फिर कैसे होगा आयात-निर्यात


इस संदर्भ में कुछ विशेषज्ञों ने अपनी खास राय दी है जिसमें यह कहा गया है कि जहां डॉलर के रुपये के मुकाबले बढ़ने पर भारत को आयात में दिक्कत होती है वहीं जब रुपया महंगा हो गया तो अमेरिका को भारत से किसी भी तरह का आयात करने में दिक्कत होगी. वहीं भारत को आयात सस्ता तो हो जाएगा लेकिन निर्यात में नुकसान होगा क्योंकि अमेरिका फिर महंगाई के कारण भारत से कम आयात करेगा.


Export-Import-Bank1


Read More: 11 साल के बच्चे ने आइंस्टीन और हॉकिंस को आईक्यू के मामले में पछाड़ दिया… पढ़िए कुदरत का एक और चमत्कार


क्या होगा विदेश में भारतीय मजदूरों का?


इस समय विदेश में भारी मात्रा में भारतीय मजदूर या फिर भारतीय मूल के ही लोग काम कर रहे हैं जो अपने वेतन का कुछ हिस्सा भारत में अपने रिश्तेदारों को भेजते हैं. फिलहाल वो भेजा हुआ वेतन जब डॉलर से भारतीय मुद्रा में बदला जाता है तो भेजा हुआ केवल 10 डॉलर भी यहां 600 रुपये से भी ऊपर चला जाता है जिसका भारतीयों को फायदा होता है, लेकिन यदि रुपया महंगा हो गया तो?


remittance


यदि रुपया महंगा हो गया तो अमेरिका को भारतीय मजदूर महंगे पड़ेंगे, साथ ही भारत में भेजा हुआ डॉलर रुपये में बदलने के बाद ना के बराबर रह जाएगा. यही नहीं उन भारतीय मजदूरों को फिर कम वेतन मिलेगा और अंत में वे लोग भारत वापिस आकर काम करना पसंद करेंगे जहां वेतन कम से कम अमेरिकी डॉलर के मुकाबले में ज्यादा होगा.


फिर यह भी हो सकता है


विशेषज्ञों का यह भी मानना है कि यदि रुपया महंगा हुआ तो ना सिर्फ भारतीय मजदूर वापिस आएंगे बल्कि भारत खुद अमेरिकी मजदूर को काम पर रखेगा क्योंकि वे लोग कम वेतन में भी काम करने को तैयार हो जाएंगे जैसा कि इस समय भारतीय मजदूर विदेश में कर रहे हैं. उनका भेजा हुआ पैसा भारत में तो दोगुणा हो जाता है लेकिन विदेश के मुकाबले में उनका वेतन काफी कम है.


indian workers


Read More: क्या वजह है जो टूटे शीशे को अशुभ माना जाता है… जानिए प्रचलित अंधविश्वासों के पीछे छिपे कारणों को


भारत को भी होगी दिक्कत


रुपये के महंगे होने के बाद ना केवल अमेरिका को बल्कि भारत को भी दिक्कत हो सकती है क्योंकि अंतरराष्ट्रीय बाजार में महंगाई बढ़ेगी और भारत की चीजें काफी महंगी हो जाएंगी जिसे कोई भी खरीदना नहीं चाहेगा. यह भारतीय व्यापार को खासा नुकसान पहुंचाएगा.


यह पहले भी हुआ है


यह सभी बातें केवल हमारे दीमाग की मान्यताएं नहीं हैं बल्कि इसका साक्षात उदाहरण खुद जापान है. यह वर्ष 1986 की बात है जब अचानक रातों रात डॉलर का दाम जो कि एक डॉलर के मुकाबले में 280 येन होता था वो एकदम से 140 येन हो गया. इस इतने बड़े बदलाव से जापान की अर्थव्यवस्था को इतना बड़ा धक्का लगा जिसका नुकसान आजतक यह देश सह रहा है.


rbi


यही कारण है कि भारतीय रिजर्व बैंक ने कुछ मान्यताएं बना रखी हैं जिसकी मदद से ना तो रुपये को ज्यादा गिरने दिया जाता है और ना ही उसे ज्यादा बढ़ने दिया जाता है क्योंकि दोनों विषयों में कहीं ना कहीं नुकसान झेलना ही पड़ता है.


Read More:

हर मौत यहां खुशियां लेकर आती है….पढ़िए क्यों परिजनों की मृत्यु पर शोक नहीं जश्न मनाया जाता है!


बंद कमरे में अपने प्रेमी से इश्क फरमाने के लिए मां ने कुछ ऐसा किया जिसकी किसी ने कल्पना नहीं की थी


रेगिस्तान में निकले तालाब की अंजान हकीकत से डरे हुए हैं लोग, खौफ का कारण बन गया है इसका रहस्यमय पानी !!



Tags:                               

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 3.33 out of 5)
Loading ... Loading ...

6 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

HindIndia के द्वारा
November 4, 2016

बहुत ही उम्दा ….. बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति …. Thanks for sharing this. :) :) - www.hindindia.com

jitendra के द्वारा
January 25, 2015

mujhe ab bhi dhyan h aaj se sirf 8 saal pahle ek dollar = 40 tb to itni mahangai nhi thi par ab dekho 1 dollar= 65 rupee ab mahangai bhi bad gyi or dollar majbut ho gya isliye dollar ka rate girna chahiye….. tabhi achcha hoga india k liye

Lala Parihar के द्वारा
September 18, 2014

Bhai agar aisa hota he to ham vyapar sirf america ya england se hi nahi karte aise sekdo desh he jinki carrency dollor se kam he vo to hamse vyapar karenge …aur khud hindustan ka bhi khasi janta he jo hame yahi apna mal bechna thik rahega …hindustan ko kisi b cheej ko aayat karneki jarurat nahi he yahi ban sakti he …to behtar yahi he k rupaya majbut ho

Pawan के द्वारा
September 17, 2014

Agar Rupiya dalar e jyada bhav ka ho jaye or kisi parkar ka koi nukshan bhi na ho yani ki shaap bhi mar jaye or lathi bhi na tute to kasa rhega agar haa to mere paas h iska plan

    ayush के द्वारा
    September 19, 2014

    how is it possible


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran