blogid : 7629 postid : 785868

एक ऐसा गांव जहां हर आदमी कमाता है 80 लाख रुपए

Posted On: 17 Sep, 2014 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

गांव का नाम आते ही मन में टूटी-फूटी सड़कें, खपरैल (टाइल) और घास-फूस से बने घर और रोजी रोटी के लिए खेतों में मेहनत करते किसान आदि की तस्वीरें दिमाग में उभरने लगती है, यहां रहने वाले लोगों के लिए आलीशान बंगला, महंगी कार, अच्छी शिक्षा और हर तरह की जरूरी सुख-सुविधाएं जो शहरों में रहने वाले लोगों को मिलती है एक सपने की तरह है. लेकिन चीन के हुआझी गांव में रहने वाले लोगों के लिए ये कोई सपना नहीं, बल्कि हकीकत है. ये गांव चीन के जियांगयिन शहर के पास है और इसे पूरे देश में सबसे अमीर कृषि गांव कहा जाता है. इस गांव में रहने वाले सभी 2000 रजिस्टर्ड लोगों की सालाना आमदनी एक लाख यूरो (करीब 80 लाख रुपए) है. यहीं नहीं, यहां बसने वाले करोड़पतियों की संख्या चीन के और गांवों की तुलना में सबसे ज्यादा हैं.


huaxi-village


Read: अगर डॉक्टर मौत की खबर देना नहीं भूलता तो शायद वह जिंदा होती


हालांकि, शुरुआती दौर में हुआझी गांव की तस्वीर ऐसी नहीं थी. 1961 में स्थापना के बाद यहां कृषि की हालत बहुत खराब थी, लेकिन गांव की साम्यवादी पार्टी समिति के पूर्व अध्यक्ष रहे वू रेनवाओ ने इस गांव की सूरत ही बदल दी. उन्होंने न केवले औद्योगिक विकास के लिए योजना बनाई बल्कि कृषि प्रणाली में सुधार के लिए ठोस नियम भी बनाया. उन्होंने मल्टी सेक्टर इंडस्ट्री कंपनी बनाई और 1990 में कंपनी को शेयर बाजार में सूचीबद्ध कराया. इस कंपनी की खास बात यह है कि इसके शेयरधारकों में गांववालों के नाम को शामिल किया गया.


Chopper Suey

गांव की स्टील, सिल्क और ट्रैवल इंडस्ट्री खास तौर पर विकसित है और इसने 2012 में मुख्य रूप से 9.6 अरब डॉलर का फायदा कमाया. गांव के लोगों के लाभ का हिस्सा कंपनी में शेयर होल्डर निवासियों के बीच बांटा जाता है. अपने शेयर के जरिए जो लाभ गांव वाले कमाते हैं, उसका एक बड़ा हिस्सा यानी 80 फीसदी टैक्स में कट जाता है, लेकिन इसके बदले में पंजीकृत नागरिकों को बंगला, कार, मुफ्त स्वास्थ्य सुरक्षा, मुफ्त शिक्षा, शहर के हेलिकॉप्टर के मुफ्त इस्तेमाल के साथ ही होटलों में मुफ्त खाने की सुविधा भी मिलती है.


image04


गांववालों को मिलने वाले सुविधाओं का सिलसिला यही खत्म नहीं होता. 50 साल के ज्यादा उम्र की महिलाओं और 55 साल से ज्यादा उम्र के पुरुषों को हर महीने की पेंशन के साथ ही चावल और सब्जियां भी दी जाती हैं. सरकारी सुविधाओं और शेयरधारकों में जिन लोगों को पंजीकृत किया गया है ये वही लोग हैं जो हुआझी गांव की स्थापना के वक्त से ही यहां रह रहे हैं.


Read: हिटलर के यातना शिविरों में बच्चों को दी जाती थी ऐसी मौत जिसे पढ़कर आपकी रूह कांप जाएगी


हुआझी गांव में प्रवेश करने के बाद ऐसा कहीं से भी नहीं लगता कि यह गांव उन गांवों की तरह है जिनकी तस्वीर हमारे दिमाग में बनी हुई है. यहां की उंची-उंची बिल्डिंग, चौड़ी-चौड़ी सड़के, होट्ल्स, खूबसूरत पार्क, स्वीमिंग पूल तथा अन्य सुख सुविधाओं को देखकर विश्व के हाईटेक शहर भी फीके पड़ते दिखाई देते हैं.


image05


हुआझी गांव सिर्फ समृद्ध ही नहीं है, यह देखने में भी बहुत आकर्षक है. देशी-विदेशी तकरीबन हजारों लोग रोजाना इस गांव में घूमने और इसकी बढ़ती तरक्की को समझने के लिए आते हैं. आज हुवाझी गांव चीन का प्रौद्योगिकी और पर्यटन हब का केंद्र बना हुआ है. इस गांव ने दुनियाभर के बिजनेसमैन को काफी आकर्षित किया है. निवेशक यहां शिपिंग, स्टील और टेक्सटाइल क्षेत्र में काफी स्कोप देख रहे हैं.


Read more:

क्या वजह है जो टूटे शीशे को अशुभ माना जाता है… जानिए प्रचलित अंधविश्वासों के पीछे छिपे कारणों को

शरीर से विकलांग लेकिन हौसले की दास्तां सुन आप रह जाएंगे स्तब्ध

समलैंगिक अधिकारों के लिए लड़ रही है ये आठ साल की बच्ची..इसकी कहानी पढ़कर दंग रह जाएंगे आप




Tags:               

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (6 votes, average: 3.67 out of 5)
Loading ... Loading ...

6 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

ankit के द्वारा
November 5, 2014

बहूत अचछा गा्ॅव कास ऐसा गाॅव भारत मै हॊता

sunil के द्वारा
November 2, 2014

कास इस तरह का गाॅव भारत मै भी होता 

dilip के द्वारा
September 18, 2014

this is a veary entresting news and veary kritkal work.

mahendra kumar के द्वारा
September 18, 2014

G.a.n

MD SHAHJAD के द्वारा
September 18, 2014

like

    SV के द्वारा
    May 10, 2015

    nic


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran