blogid : 7629 postid : 739583

रात के अंधेरे में आसमान से उतरकर जब वे धरती पर आए तो सारा गांव हैरान रह गया, वीडियो में देखिए एलियन नहीं तो कौन थे वो

Posted On: 9 May, 2014 Infotainment में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

कभी-कभी हमारे साथ कुछ ऐसी विचित्र घटनाएं होती हैं जिनका हमने कभी अंदाजा भी ना लगाया हो. अचानक कुछ ऐसा मिल जाए जिसे देखकर आप एक समय पर तो विश्वास भी नहीं पर पाते. कुछ ऐसा ही हुआ है श्रीलंका स्थित चिलाव गांव में. गांव वालों का कहना है कि उन्हें काफी अच्छी मात्रा में सड़कों व घास में मछलियां मिली हैं और वे जिंदा भी हैं.


fishes from the sky


Read: दस सालों से कमरे में बंद इस शख्सियत की क्या थी हकीकत, एक अविश्वसनीय सच


आसामान से बरसी थीं ढेर सारी मछलियां

गांव वालों को करीब 50 किलो के आसपास जिंदा व मृत मछलियां मिली हैं और उनका कहना है कि यह मछलियां खाने लायक भी हैं. जिले के आसपास सड़क, घांस व घरों की छत पर मछलियों को देखकर सभी गांव वाले खुश तो हैं लेकिन साथ ही वे काफी चौंक भी गए हैं कि आखिर यह मछलियां आई कहां से.



YouTube Preview Image



लेकिन कैसे बरसीं यह मछलियां?

वैज्ञानिकों के अनुसार उस क्षेत्र में हाल ही में आए एक तूफान के कारण उन तेज हवाओं ने इन जीवों को नदी से बाहर खींच लिया और इस बहाव में वे भूमि परा आ गिरीं. वैज्ञानिकों का कहना है कि ऐसा तभी होता है जब तूफान से बनने वाली चक्कर खाती हुई हवाएं पानी व नदी में उपस्थित सभी जानवरों जैसे कि मछलियों व मेंढकों को खुद में खींच लेती हैं.



एक शोध के मुताबिक यह कहा गया है कि ऐस दृश्य पहली बार देखने को नहीं मिला है. इससे पहले भी दक्षिणी श्रीलंका के एक भाग में आसमान से झींगा मछलियों की बारिश हुई थी.


fishes

इस विषय पर शोध करते हुए अमरीका के एक वैज्ञानिक निलटॉन रेनो ने यह निष्कर्ष निकाला है कि मछलियां आसानी से जलस्तंभ के साथ आसमान में उड़ जाती हैं. रेनो ने कहा कि यदि यह जलस्तंभ घूमना बंद भी कर दे फिर भी मछलियां आसानी से धरती पर आ जाती हैं व जमीन पर गिरने के बाद छटपटाती हैं.


Read: प्रकृति के कानून को चुनौती देती एक गर्भवती मादा की रहस्यमय कहानी


इस पूरे विषय में यह भी सामने आया है कि मछलियों का बारिश के साथ गिरने से यह तात्पर्य नहीं है कि पानी यानि कि नदी या झील उस जगह के आसपास हो बल्कि यह मछलियां इनसे भी काफी दूर तक उड़ान भरती हैं. रेनो का कहना है कि इन मछलियों को उड़ने के लिए केवल जोरदार हवा के बहाव की जरूरत होती है जिसकी मदद से वे हवा में आसानी से तैर सकती हैं. इस बहाव के थमने पर ही वे धरती पर आती हैं और कई बार यह मछलियां जब काफी ऊंचाई पर पहुंच जाती हैं तो वे जमीन पर गिरने से मर भी जाती हैं.

fishes


दुनिया में और भी कई भागों में बरसी हैं मछलियां

सिर्फ श्रीलंका में ही नहीं, दुनिया के और भी कई भागों में मछलियों की बारिश देखी गई है. आसियान देश फ़िलिपींस के लोगों को भी एक बार इसी घटना का अनुभव हुआ था. वहां के लोगों का कहना है कि आसमान से करीब 3 इंच लंबी व पीले रंग की तकरीबन 72 मछलियां बारिश के साथ बरसी थीं.

Read More:

वीडियो में देखिए कि वो कौन था जिसके पास अपना शरीर नहीं सिर्फ परछाई थी, जिसे देख दर्शक भयभीत हो गए

एलियन की शक्ल के भी इंसान होते थे, यकीन नहीं आता तो पढ़कर देखिए

सिर्फ वहम नहीं है यह आवाज, इस अनजानी गूंज को साल 1990 में पहली बार सुना गया



Tags:             

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (4 votes, average: 4.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

1 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Harpreet Singh के द्वारा
May 9, 2014

यह बारिश के लेट होने की वजह से होता है समुन्दर का पानी वाष्पित होकर मछलियों के अण्डों को साथ हे ले जाता है और बदल के अंदर यह मछल्यां के अंडे बी होते हैं इसीलिए तोह देखा जाता है बारिश के पानी मई अपने आप मछलियाँ आ जाती हैं उन्हें वह कोण डालता है. यह कुदरत है दोस्तों मछलियों को एक नदी से दूसरी नदी तक पोहंचा देती है कुदरत बारिश लेट होने की वजह से अंडे मछलियाँ बन जाते हैं और कुदरत का शानदार नमूना देखने को मिलता है


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran