blogid : 7629 postid : 737996

अजगर के रूप में जन्में इंद्र को पाण्डवों ने किया था श्राप मुक्त, पढ़िए एक अध्यात्मिक सच्चाई

Posted On: 4 May, 2014 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

स्वर्ग लोक के देवता इन्द्र की सत्ता को जिसने भी ललकारा है उसे हर बार मुंह की खानी पड़ी है. पुराणों में कई ऐसी घटनाओं का जिक्र है जिसमें यह स्पष्ट तौर पर बताया गया है कि स्वर्ग के राजा इन्द्र को उनके पद से हटाने का दुस्साहस करने वाला चाहे कोई असुर हो, इंसान हो या फिर देव, सभी को हार का ही सामना करना पड़ा है. लेकिन क्या आप जानते हैं कि एक बार ऐसा भी हुआ था जब स्वयं इन्द्र ने ही अपना पद छोड़ देने का निश्चय कर लिया था और वो भी पश्चाताप के लिए.


indra 1


कृष्ण के मित्र सुदामा एक राक्षस थे जिनका वध भगवान शिव ने किया, शास्त्रों की अचंभित करने वाली कहानी


वृत्तासुर नामक एक राक्षस, जिसने तीनों लोक में हाहाकार मचा रखा था, का अंत करने के बाद ब्रह्महत्या का पश्चाताप करने के लिए इन्द्र ने कमल के फूल के तने में रहने का निश्चय किया. इन्द्र लोक छोड़कर कमल की डंडी में उनके वास करने के कारण स्वर्ग का काम बाधित हो रहा था. ना बारिश होती थी, ना हवा चलती थी, पूरी की पूरी प्राकृतिक व्यवस्था अस्त-व्यस्त हो गई थी. इसलिए देवों ने सोचा कि किसी अन्य व्यक्ति को स्वर्ग का कार्यभार सौंपकर इन्द्र का पद दे दिया जाए. बहुत विचार करने के बाद उन्होंने पृथ्वी के प्रतापी राजा नहुष को इन्द्र की पदवी देने का फैसला किया.


vritrasura


जब तक नहुष पृथ्वी लोक पर था उसकी पहचान एक धर्मात्मा की तौर पर थी. वह परोपकारी, दूसरों के लिए भलाई चाहने वाला, सभी के हितों के लिए काम करने वाला राजा था लेकिन स्वर्ग की शान और ऐशो-आराम देखकर वह बहक गया और स्वर्ग की सभी सुख-सुविधाओं का लुत्फ उठाने लगा. उसकी नीयत दिनोंदिन अनैतिक होने लगी और वह वास्तविक इन्द्र की पत्नी इन्द्राणी को भी अपना बनाने की चाह रखने लगा.


indralok


उसने इन्द्राणी को कहा कि अब इन्द्र वो है इसलिए इन्द्राणी का काम उसे प्रसन्न करना है. आत्मसमर्पण करने के लिए कहकर वह इंद्राणी का इंतजार करने लगा. कई दिन बीत गए परंतु इन्द्राणी हर बार नहुष के सामने कोई ना कोई बहाना बना देती.


कटे हुए सिर के बावजूद वो हर रात घोड़े पर सवार होकर आता है…जानिए एक खौफनाक हकीकत


इन्द्राणी, देवों के देव बृहस्पति के पास मदद मांगने के लिए गईं. बृहस्पति ने उन्हें कहा कि वह नहुष को कहें कि वह उसके सामने आत्मसमर्पण करने के लिए तैयार हैं लेकिन सिर्फ तभी जब वह जान लेंगी कि उनके पति जिन्दा हैं या नहीं. इतना ही नहीं बृहस्पति ने इन्द्राणी से कहा कि वह विष्णु को प्रसन्न कर उनसे समाधान मांगें.



भगवान विष्णु ने इन्द्राणी की तपस्या से प्रसन्न होकर उन्हें अपने पति को ब्रह्म हत्या जैसे पाप से मुक्ति दिलवाने के लिए अश्वमेध यज्ञ करने और देवी की आराधना करने जैसा सुझाव दिया. इन्द्राणी ने ऐसा ही किया और उनकी तपस्या से संतुष्ट होकर देवी ने उन्हें इन्द्र की सभी शक्तियां वापस मिलने, पति से पुन: मिलन और नहुष की सत्ता का अंत जैसा वरदान दे दिया.


brihaspati


इन्द्राणी ने इन्द्र को ढूंढ़ लिया और नहुष को उसके पापों की सजा देने के लिए एक योजना बनाई. योजनानुसार इन्द्राणी ने नहुष से कहा कि वह उसकी हो जाएंगी पर सिर्फ तभी जब नहुष सप्तऋषियों द्वारा उठाई गई पालकी पर बैठकर उनके पास आएंगे. नहुष ने ऐसा ही किया. सप्तऋषियों की पालकी में बैठकर वो इन्द्राणी से मिलने चला परंतु अधीरता में पालकी धीरे-धीरे चलाने की वजह से उसने एक सप्तऋषि को पैर मार दिया. पूर्व में किए गए जिन पुण्यकर्मों ने उसे अब तक बचाकर रखा था वह समाप्त हो गए और महर्षि को लात मारने की वजह से उसके पाप उसके पुण्य पर भारी पड़ गए.



nahusha

वह पालकी से गिर गया और सीधे भू-लोक में जा गिरा, सप्तऋषि से मिले श्राप की वजह से वह अजगर बनकर जीने लगा और उसका उद्धार तब हुआ जब हजारों वर्षों बाद पांडवों ने उसे इस श्राप से मुक्त करवाया.


Read More:

हनुमान की माता अंजना के अप्सरा से वानरी बनने की अद्भुत पौराणिक कथा

वो अपनी दुनिया में इंसानों को आने नहीं देते, जानिए उन स्थानों के बारे में जहां इंसानों को जाने की मनाही है

क्यों सीता को अपने पति की बदनामी का भय सता रहा था, जानिए पुराणों में लिखी एक रहस्यमय घटना?



Tags:                       

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 2.50 out of 5)
Loading ... Loading ...

1 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran