blogid : 7629 postid : 722327

क्या पता आपके घर में भी वो अपना आशियाना तलाश रहे हों!!

Posted On: 25 Mar, 2014 Infotainment में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

यह बात हमेशा से ही एक बहस का मुद्दा रही है कि भूत-प्रेत जैसी पारलौकिक ताकतों का इंसानी दुनिया में कोई अस्तित्व है या नहीं? बहुत से लोग इस बात को स्वीकार करते हैं कि उन्होंने ऐसी काली शक्तियों के होने का आभास किया है, वहीं दूसरी ओर ऐसे लोगों की भी कोई कमी नहीं है जो इसे बेवजह की बकवास और खाली दिमाग की उपज करार देते हैं. पारलौकिक ताकतों से संबंधित यह विषय हमेशा से ही मानव मस्तिष्क की जिज्ञासा का केन्द्र रहा है और लोकप्रिय भी इतना कि इस पर ढेरों फिल्मों का निर्माण भी किया गया है. लोग ऐसा मानते हैं कि भूतहा कहानियों पर बनीं फिल्मों के विषय निराधार और फिक्शन होते हैं लेकिन आज हम आपको ऐसी ही कुछ फिल्मों के बारे में बताने जा रहे हैं जिनके विषय काल्पनिक नहीं बल्कि वास्तविक हैं. ये हम नहीं बल्कि वो लोग कह रहे हैं जिन्होंने उन बुरी शक्तियों का अनुभव किया है:


Horror

1. दी कॉन्जरिंग: वर्ष 2013 में रिलीज हुई यह फिल्म एक वास्तविक घटना पर आधारित थी. इस फिल्म में पैरानॉर्मल एक्सपर्ट एक ऐसे घर की खोजबीन के लिए पहुंचते हैं जहां रात को अजीबोगरीब आवाजें आती थी, परछाइयां नजर आती थीं और कभी-कभार चीखने और चिल्लाने का सिलसिला भी रहता था.


YouTube Preview Image


2. दी एक्सॉर्जिस्म ऑफ एमिली रोज: इस फिल्म की कहानी एक पादरी पर आधारित थी जिस पर एमिली रोज नामक महिला की हत्या का इल्जाम था. वर्ष 2005 में प्रदर्शित हुई इस फिल्म में पादरी के एमिली पर झाड़-फूंक करने और इस दौरान उसकी मौत को दिखाया गया है. वास्तविक घटना पर बनी यह फिल्म एक जर्मन लड़की के जीवन पर बेस्ड थी जिसकी मौत अत्यंत पीड़ा सहने और भूखे-प्यासे रहने की वजह से हुई थी. दो पादरियों का कहना था कि उस पर पिशाच का साया है इसलिए उस पर कई प्रकार के अमानवीय अत्याचार किए गए जिसकी वजह से उसकी मृत्यु हो गई.


YouTube Preview Image


3. ईटन अलाइव: वर्ष 1977 में प्रदर्शित फिल्म ईटन अलाइव की कहानी एक होटल मालिक पर आधारित थी जो लोगों को मारकर मगरमच्छ को खिला देता था. ये कहानी जोई बॉल नामक एक सीरियल किलर के जीवन पर बनी थी. पुलिसिया आंकड़ों के अनुसार जोई करीब 30 से भी ज्यादा महिलाओं का कत्ल कर उन्हें मगरमच्छ के हवाले कर चुका था.



हर रात नरभक्षियों के साथ क्यों गुजारता है ये परिवार


4. द मॉथमैन प्रोफसिस: जॉन क्लीन नामक एक व्यक्ति जो अपनी जॉब छोड़कर वेस्ट वर्जीनिया में पाए जाने पंखों वाले ऐसे जीव, मॉथमेन, की खोज में निकल पड़ता है जो इंसानी जीवन के लिए खतरा बन चुके हैं.


YouTube Preview Image



5. दी एमिटीविले हॉरर: न्यूयॉर्क में रहने आया लत्ज परिवार अपने घर में अजीबोगरीब घटनाओं का अनुभव करता है और इसी घर में बड़ी ही अमानवीय तरीके से उनकी मौत हो जाती है. यह फिल्म ‘दी एमिटीविले हॉरर’ नाम की किताब पर आधारित थी, जिसमें कई भूतहा फिल्मों के सीन और उनकी कहानियों को सम्मिलित किया गया था.



तस्वीरों में देखिए आत्माओं का सच – Real ghost caught in camera


6. दी गर्ल नेक्स्ट डोर: इसी नाम के उपन्यास पर बनी यह फिल्म एक ऐसी किशोरवय लड़की की कहानी थी जिसका पालन-पोषण उसकी एक आंटी द्वारा किया जा रहा था. इस दौरान उस किशोर लड़की को किन-किन अमानवीय अत्याचारों का सामना करना पड़ा, कैसे-कैसे उसे टॉर्चर किया गया इसी विषय पर आधारित थी यह फिल्म. यह फिल्म एक 16 वर्षीय किशोरी के असल जीवन पर बनी थी.


7. दी ब्लॉब: अगर आपको हॉरर फिल्में देखने का शौक है तो वर्ष 1958 में प्रदर्शित यह फिल्म आपको बहुत पसंद आएगी. अमीबा की तरह फैलते एलियन जैसे विषय पर बनी इस फिल्म ने दर्शकों का खूब मनोरंजन किया था.


YouTube Preview Image


8. दी हॉंटिंग इन कनेक्टिकट: दी एमिटीविले हॉरर जैसे समान विषय पर बनी यह फिल्म भी एक परिवार की कहानी है जिन्हें अपने घर में सुपरनैचुरल या पारलौकिक शक्तियों के होने का अनुभव होता है.

Read More


क्या वाकई वह ‘आत्मा’ थी जिसे देखा तो नहीं गया पर महसूस किया गया

मौत की झूठी खबर बनी मौत की वजह

क्या आप करना चाहेंगे मरे हुए लोगों को सजाने का काम?




Tags:                 

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

2 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

ramesh c mishra के द्वारा
March 19, 2015

इस संपादक का सारा स्रोत सिर्फ फिल्मे है .ऊँचे दर्जे का बेकूफ है.

mithilesh dhar dubey के द्वारा
March 25, 2014

अच्छी जानकारियां दी आपने। आभार


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran