blogid : 7629 postid : 312

शवों की दुर्दशा की हैरान कर देने वाली कहानी

Posted On: 31 Jan, 2014 Infotainment में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

मानव स्वभाव ही ऐसा है कि वह भावनाओं के साथ जुड़ा होने के कारण बहुत अधिक क्रूर नहीं हो पाता. कुछ खास परिस्थितियों को छोड़कर इंसानों से इंसानों को कोई खतरा नहीं होता. खासकर सभ्यता ने परिवार नाम का जो सामाजिक ढ़ांचा दिया उसमें हम अपने आप को पूरी तरह सुरक्षित मानते हैं. पर सोचिए अगर परंपरा के नाम पर परिवार ही किसी को गिद्धों, चील-कौओं के सामने टुकड़ों में काटकर फेंक दे! यह सिर्फ कल्पना नहीं बल्कि संसार के एक छोटे से हिस्से का सच भी है.


मानव जीवन का सबसे बड़ा फायदा होता है परिवार और रिश्ते नाते. हमारा समाज परिवार से बनता है. जिंदगी के हर सुख-दुख में हमारा परिवार ही हमारे साथ होता है. जीवन की शुरूआत से लेकर जीवन के अंत तक हमारा परिवार हमसे किसी ना किसी रूप में जुड़ा रहता है. परिवार से क्रूरता की उम्मीद कम ही होती है लेकिन तिब्बत में एक परंपरा के अनुसार मृतकों के क्रियाकर्म की अनोखी प्रथा प्रचलन में थी. इसके अनुसार मृत व्यक्ति के शरीर के छोटे-छोटे टुकड़ों को चाय और याक के दूध में डुबो कर उन्हें गिद्धों के सामने परोस दिया जाता था. और यह सब कोई और नहीं बल्कि मृतक के परिजन ही करते थे.


लाश को दफनाना, जलाना, नदी में बहाना आदि तो हम जानते हैं लेकिन लाश के टुकड़े करके उसे गिद्धों के सामने डाल देना वाकई अविश्वसनीय है. इस प्रथा में एक और चीज आपके होश उड़ा देगी कि यह लोग मृतक के मांस के टुकड़े तो गिद्धों को डालते ही थे साथ ही जब गिद्ध मांस खाकर उड़ जाते थे तो बची हुए हड्डियों को भी कूटकर दुबारा कौवों और बाज को खिलाते थे.


मौत के बाद शवों की ऐसी दुर्दशा को तिब्बतवासी एक परंपरा मानते हैं. उनका मानना है कि ऐसा करने से मृतक जल्दी भगवान के पास पहुंच कर दूसरा जन्म लेता है. इसके पीछे दूसरी वजह यह भी है कि तिब्बत की जमीन पथरीली है इसलिए वहां जमीन में दफनाना थोड़ा मुश्किल काम होता है साथ ही जलावन और ऊर्जा की कमी की वजह से यह प्रथा प्रचलन में आई.

चूहा देखकर अपनी मनोकामनाएं पूर्ण करें

हालांकि चीन की कम्युनिस्ट सरकार ने 1960 के दशक में इस प्रथा पर रोक लगा दी थी पर 1980 के दशक में यह प्रथा फिर से देखने में आई. यह प्रथा बेहद क्रूर तो है ही साथ ही इससे प्रकृति को भी नुकसान पहुंचने का खतरा रहता है. दुनिया में क्या-क्या होता है इसकी तो यह एक छोटी-सी झलक थी. दुनिया के अन्य अच्छे और बुरे रंगों को देखने और जानने के लिए हमसे जुड़े रहें.


देखा है कहीं आदमी ऐसा!

ऐसा आपके साथ भी हो सकता है

इस आंखों देखी सच्चाई से आप इनकार नहीं कर पाएंगे



Tags:                                         

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 3.50 out of 5)
Loading ... Loading ...

2 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

dineshaastik के द्वारा
January 31, 2012

मेरे विचार से यह क्रूर प्रथा नहीं, अपितु ईश्वरीय सुकृत्य है, जीवित रहते हमनें किसी भूखे का पेट भरा, इसका कोई स्पष्ट प्रमाण नहीं होता। किन्तु मरणोपरान्त यदि हमारा शरीर किसी भूखे का पेट भर सका तो शायद हमारे लिये गर्व एवं सौभाग्य की बात होगी। प्राणहीन शरीर मिट्टी के अतिरिक्त ओर कुछ नहीं। नई एवं सुन्दर जानकारी देने के लिये आभार…….. कृपया इसे भी पढ़े- क्या यही गणतंत्र है

sita के द्वारा
January 21, 2012

यह बहुत ही ज्यादा दर्दनाक है


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran