blogid : 7629 postid : 672093

मरे हुए को उसने जिंदा कर दिया!

Posted On: 17 Dec, 2013 Infotainment में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

मरकर चमत्कारिक रूप से जिंदा हुए लोगों के बारे में आपने कई बार सुना होगा. लेकिन यह सब भगवान का चमत्कार मानकर आप भूल जाते हैं क्योंकि जीना मरना कभी भी इंसानों के हाथ नहीं होता. सोचिए अगर मरने के बाद दुबारा जिंदा हो पाते..तो क्या होता! शायद तब कोई मरता नहीं और…ऐसा एक वक्त जल्दी ही आनेवाला है…


man in China with his hand attached to ankleकुदरत का करिश्मा और बात होती है लेकिन आज विज्ञान के करिश्मे भी कम नहीं हैं. कुदरत किसी को जीवन दे सकती है, मौत दे सकती है, मौत से बदतर अपाहिज जिंदगी भी…मतलब जो मिला आपको उसी से संतोष करना पड़ता है. इंसान के पास उसमें अपनी पसंद शामिल करना संभव नहीं है. लेकिन विज्ञान ने हमें इसमें छूट दिलाई है. बायलॉजी का कमाल देखिए कि अब कुदरती अंग भी विज्ञान के करिश्मे से पाए जा सकते हैं.


दुनिया में आज भी स्वस्थ शरीर को सबसे बड़ी पूंजी मानते हैं. जाहिर है आज की टेक्नोलॉजी में केवल एक बटन दबाकर आप बहुत कुछ कर सकते हैं लेकिन कोई भी टेक्नोलॉजी मरे को जिंदा नहीं कर सकती. दो हाथ, दो पैर, दिल, शरीर का हर अंग आपके लिए बहुत कीमती है क्योंकि टेक्नोलॉजी यह सब आपको नहीं दे सकती. लेकिन जब हम बात विज्ञान के करिश्मे की कर रहे हैं, इस बायॉलोजी की टेक्नोलॉजी ने बहुत हद तक आज इसे संभव बना दिया है और अब विज्ञान आपको प्राकृतिक हाथ-पैर भी दे सकता है. इस खबर को पढ़कर आप भी समझ जाएंगे, कैसे?

इस आंखों देखी सच्चाई से आप इनकार नहीं कर पाएंगे

odd newsइसी वर्ष नवंबर की बात है. चांगशा(चीन) के जिआओ वेई को लगा कि अब पूरी उम्र उसे अपाहिज बनकर जीना पड़ेगा. फैक्टरी में काम करते हुए दुर्घटना में मशीन से उसका दाहिना हाथ ही कट गया. उसका साथी कर्मचारी कटे हुए हाथ के साथ तुरंत उसे अस्पताल लेकर गया लेकिन दुर्घटना बहुत बड़ी थी. हाथ के साथ वी की बांहें भी कट गई थीं. स्थानीय डॉक्टरों ने उसके हाथ को दुबारा जोड़ पाने में असमर्थता जता दी. लेकिन चांगशा के ही किसी दूसरे अस्पताल में डॉक्टरों ने कहा कि वे वी का हाथ दुबारा जोड़ सकते थे लेकिन क्योंकि बांह भी कटी हुई थी इसलिए तुरंत ऑपरेशन कर ऐसा कर पाना संभव नहीं था. हाथ जोड़ने से पहले बांहों का इलाज करना था और इसमें कम से कम एक महीने का समय लगता और तब तक हाथ का जिंदा रहना जरूरी था. क्योंकि शरीर से कटकर हाथ इतने दिनों तक जिंदा नहीं रह सकता था इसलिए डॉक्टरों ने उसका हाथ पैरों से जोड़ दिया. वी इसी तरह एक माह तक रहा और एक महीने बाद डॉक्टरों ने वापस उसका हाथ उसकी सही जगह से जोड़ा.


विज्ञान की दुनिया में यह एक अजूबे से कम नहीं. पैरों से जुड़े हाथ के साथ रहना पड़ा लेकिन वी को उसका दाहिना हाथ वापस मिल गया. इससे पहले चीन में ही डॉक्टरों ने एक आदमी की क्षतिग्रस्त नाक को दुबारा उसके माथे पर उगाकर उसकी जान बचाई थी. तो अब कह सकते हैं कि अब आप कुदरत के करिश्मे में कुछ अपनी पसंद जोड़ सकते हैं. हो सकता है जल्दी ही वह वक्त भी आए जब मरे हुए को भी विज्ञान जिंदा कर दे. और ‘विविधा’ में ही आप पढ़ रहे हों कि..मरे हुए को उसने जिंदा कर दिया!

एलियन की कहानी कोई कल्पना नहीं है

11 /12 /13 का सच क्या है?

इसका कोई इलाज नहीं है



Tags:                 

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 4.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

1 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Harshit Dixit के द्वारा
December 30, 2013

Nice


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran