blogid : 7629 postid : 1328

Real Horror story in hindi - शैतानी रूहों से आज भी लड़ रही हैं वो आत्माएं

Posted On: 5 Mar, 2013 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

उसे आज हर इंसान के अंदर उसी हैवान राजा का चेहरा नजर आता है और अपनी मौत का बदला लेने के लिए वह आती है हर साल तीन दिन के लिए और लील ले जाती है उस गांव की खुशियां.



महाराष्ट्र का एक छोटा सा गांव है मालवन. शायद इस गांव का नाम भी किसी ने ना सुना हो लेकिन हम जो सच आपको बताने जा रहे हैं वह बेहद खौफनाक और किसी की भी रूह को हिलाकर रख देने वाला है.


Read – भटकती रूह की सच्ची कहानी


कहते हैं इस गांव में हर साल तीन निश्चित दिनों के अंदर आत्माएं अपना बसेरा जमाती हैं और वह तीन दिन गांव भर के लिए किसी बुरे सपने से कम नहीं बीतते.


Read - शैतानी रूहों की चपेट में आ गया पूरा गांव !!

मालवन का रास्ता डरावना और टूटा-फूटा है. पर्यटकों के लिए यह स्थान कभी भी दिलचस्प नहीं रहा इसीलिए यहां आने वाले लोग गांव के ही होते हैं या फिर उन्हीं के रिश्तेदार ही इस स्थान पर आते हैं. वह सभी इस बात को जानते हैं कि यहां हर साल दुष्ट आत्माएं आती हैं लेकिन उन भटके हुए मुसाफिरों का क्या जो गलती से उन्हीं तीन दिनों के भीतर यहां पहुंच गए हैं? उनके लिए तो जैसे खुद ही मौत को निमंत्रण देना है.


Read - पिछले जन्म की यादें क्या आपको भी परेशान करती हैं?

गांव वाले अपने घरों में ताला लगाकर इस स्थान से कहीं दूर चले जाते हैं. उन तीन दिनों में यहां सिर्फ और सिर्फ मौत का ही तांडव होता है. वहां अगर किसी के होने का एहसास होता है तो वह बस दुष्ट आत्माओं का. इसके अलावा इन तीन दिनों में अघोरी साधु भी अपनी ताकत बढ़ाने और इन भटकती दुष्ट रूहों को अपने कब्जे में करने के लिए वहां पहुंचते हैं, जिनका एकमात्र उद्देश्य किसी की भलाई नहीं बल्कि किसी भटकते मुसाफिर के शरीर में उन रूहों को सालभर के लिए कैद कर उससे अपनी हर इच्छा की पूर्ति करवाना होता


Read - मेरे बच्चे में शैतान की रूह है – Real Horror Story in Hindi

स्थानीय लोगों का मानना है कि आज से लगभग कई सौ साल पहले एक दुष्ट राजा यहां राज करता था. गांव के सरपंच की बेटी जो बहुत खूबसूरत और चुलबुली थी उस पर उस राजा की नीयत फिसल गई और वह किसी भी हाल में उसे अपना बनाने के लिए ललचाने लगा.



राजा ने उस युवती को लाने के लिए अपनी सेना भेजी लेकिन जब गांव वालों को इस बात का पता चला तो वे सैनिकों के विरोध में आ गए और उन्होंने आखिरी सांस तक उस युवती को बचाने का निश्चय किया. गांव वाले पहले ही उस दरिंदे राजा के जुल्मों से त्रस्त आ चुके थे और अब उनके लिए कुछ भी सहना संभव नहीं था. इसीलिए गांव वालों और राजा के सैनिकों में युद्ध हुआ और जाहिर था राजा के सैनिकों के आगे गांव वाले कब तक ठहर पाते. कुछ ही समय में गांव के सभी लोग मौत की नींद सो गए और जो बचे उन्हें तड़पा-तड़पा कर मौत के घाट उतार दिया गया.


Read - जब रावण को घोड़ों के बीच बांधा गया !!

तब से लेकर अब तक गांव में हर साल उन्हीं तीन दिनों, जिनमें युद्ध चला था, में आत्माएं इस पूरे गांव को अपनी चपेट में ले लेती हैं और अगर उनके सामने कोई  भी मानव आ जाता है तो उसे अपनी जान से हाथ धोना पड़ता है. उन शैतान रूहों को सभी इंसानों के अंदर राजा की सेना नजर आती है और वह उनको देखकर बौखला जाती हैं.



वह तीन दिन मौत को दावत देने जैसा है. अगर वहां गए तो समझ लीजिए कि वापस कभी नहीं आ पाएंगे. हालांकि पैरानॉर्मल विशेषज्ञों का कहना है कि आपके अर्जित पुण्य ऐसे हालातों में आपकी रक्षा करते हैं लेकिन सोचिए अगर वो भी ना हों तो………….


Read

कुदरत का करिश्मा कहें या फिर पिछले जन्म का…..

वीरान घर में आज भी भटकती है मधुबाला की रूह – Real Horror Story in Hindi


Tags: horror story in hindi, real horror story in hindi, hindi stories, bhoot, bhoot stories, real horror stories in hindi, भूत-प्रेत, हॉरर कहानियां, मालनगांव प्रेत





Tags:                   

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

3 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

KHUSHI SOLANKI के द्वारा
April 2, 2015

वोह सच में डरावनी है. आज मुझे रात को यह कहानी सपने में आएगी

shinu के द्वारा
March 5, 2013

क्या वाकई ऐसा होता है

shinu के द्वारा
March 5, 2013

मजेदार


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran