blogid : 7629 postid : 1314

Valentine Day Special – प्रेम कहानी जो कभी भुलाई नहीं जा सकती

Posted On: 14 Feb, 2013 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

खूबसूरत और बेहद आकर्षक व्यक्तित्व की मल्लिका को जब उसने दमिश्क के मदरसे में देखा तो पहली नजऱ में ही उसे उससे प्यार हो गया. उसे लाख समझाया गया कि वह प्यार-व्यार की बातें भूलकर सारा ध्यान अपनी पढ़ाई में लगाए लेकिन वह कहां किसी की मानने वाला था.

Read - Real Horror Stories in Hindi – काले जादू में बदल गई वो दुश्मनी

यहीं से शुरू हुई लैला-मजनूं की प्रेम कहानी जिसके एक सिरे पर प्रेम था और दूसरे सिरे पर अलगाव. दोनों ही चीजें निश्चित थीं लेकिन कहते हैं ना कि जो प्यार करता है उसे किसी का डर नहीं होता.


Read - अरे जिम छोड़ों, कीड़े खाओ और वजन घटाओं

धीरे-धीरे कैस की मोहब्बत का असर लैला पर भी होने लगा वह भी अपने प्रेमी कैस से मिलने के लिए बहाने तलाशने लगी. लेकिन लैला नाज्द के शाह की बेटी थी और कैस एक गरीब परिवार से ताल्लुक रखता था. लैला के परिवार को कहां यह संबंध स्वीकार होता इसीलिए लैला और कैस के मिलने पर पाबंदी लगा दी गई. यहां तक कि लैला को घर में कैद भी कर दिया गया.


Read - उसे आज भी वह औरत दिखाई देती है….

लैला की शादी बख्त से कर दी गई लेकिन उसने अपने शौहर को बता दिया कि वह सिर्फ मजनूं की है और उसे कोई और हाथ तक नहीं लगा सकता. लैला को प्रताड़ित किया गया लेकिन उसने बख्त को अपना शौहर कबूल नहीं किया. बख्त ने उसे तलाक दे दिया और लैला ने मजनूं की तलाश शुरू कर दी. जब मजनूं उसे मिला तो दोनों ने दूर चले जाने का निर्णय किया लेकिन लैला की मां ने उसे अलग किया और घर ले गई.


Read - बाप रे, यह क्या अजूबा है !!

इस बार मजनूं के गम में लैला ने दम तोड़ दिया और लैला की मौत की खबर सुनकर मजनूं की सांसें भी रुक गईं. उनकी मौत के बाद दुनिया को यह समझ आया कि प्रेम कितनी खूबसूरत चीज होती है. दोनों को साथ-साथ दफन किया गया ताकि मरने के बाद तो कम से कम दोनों साथ रह सकें.



कुछ कथाओं में तो यहां तक कहा गया है कि कैस पागल हो गया और इसी पागलपन और लैला की जुदाई में उसने कई कविताएं भी रचीं. लैला के लिए उसकी इसी दीवानगी को देखते हुए कैस को लोग मजनूं भी कहने लगे.


Read - आज भी उस घर में कोई रोता है…..!!

आज यही मजनूं मोहब्बत का पर्याय बनकर लोगों के जहन में बैठा हुआ है. प्यार करने वाले लोग तो लैला-मजनूं को अपना आराध्य ही मानते हैं और उनकी कहानी को अपने लिए आदर्श.



भारत-पाकिस्तान की सीमा से सटे राजस्थान के एक छोटे से गांव बिंजौर में लैला-मजनूं की मजार है. यहां आज भी प्रेमी जोड़े माथा टेकने आते हैं. समय के साथ-साथ लैला-मजनूं की कब्र अब अपना महत्व जरूर खोती जा रही है लेकिन प्रेमी-प्रेमिकाओं के लिए यह स्थान आज भी एक पवित्र स्थल की तरह है. ऐसा माना जाता है कि अरब देश के निवासी मजनूं ने इसी गांव में जान दी थी.


Read - क्यूपिड के तीर से घायल हो जाएगा आपका ‘वैलेंटाइन’

बहुत से लोग इस कहानी को काल्पनिक मानते हैं लेकिन शताब्दियों से लैला-मजनूं की प्रेम कहानी दुनिया भर के प्रेमियों के लिए मिसाल बनी हुई है. प्रेमी जोड़ों को यह विश्वास रहता है कि अगर वह लैला-मजनूं की मजार पर माथा टेकेंगे तो उनकी सभी मनोकामनाएं पूरी हो जाएंगी.


क्या सच में वह एक रुह से प्रेम कर बैठा था….

एक खूंखार जानवर की पत्नी के साथ ‘सेक्स’

ये हैं राजनीति के इश्कजादे !!



Tags: valentine day, valentines day, cupid, love stories of laila majnu, वैलेंटाइन डे, क्यूपिड, लैला-मजनूं की प्रेम कहानी






Tags:               

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

2 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

princess shruti के द्वारा
May 12, 2015

so beautiful story loved it

अमन के द्वारा
February 14, 2013

अच्छा लगा पढ़ कर


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran