blogid : 7629 postid : 1308

एलियन के होने का एक और सबूत

Posted On: 6 Feb, 2013 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

क्या वाकई एलियन होते हैं? यूएफओ क्या सच में दिखाई देती हैं? धरती से परे क्या किसी अन्य ग्रह में भी जीवन संभव हैं? अगर एलियन सच में होते हैं तो वो दिखते कैसे होंगे? क्या वो इंसानों के लिए खतरा है? जब भी एलियन की बात उठती है यह कुछ सवाल अचानक हमारे मस्तिष्क में कौंधने लगते हैं. कभी कोई एलियन को देखे जाने की बात कहता है तो कभी कोई यूएफओ देखने का दावा करता है.


Read - नग्न तस्वीर बनवाने का अहसास कैसा होता है?

वैसे तो एलियन का अस्तित्व वैज्ञानिक अध्ययनों का सबसे रोचक और प्रमुख हिस्सा है लेकिन हैरानी की बात है कि पिछले कई सालों की रिसर्च के बाद भी वैज्ञानिक पुख्ता तौर पर कुछ भी कह नहीं सकते हैं. ना वो इस बात को स्वीकारते हैं कि एलियन होते हैं और ना ही पूरी तरह उनके अस्तित्व को नकारते हैं.

Read – अरे जिम छोड़ों, कीड़े खाओ और वजन घटाओं

अब हाल ही में ब्रिटेन के एक शीर्ष वैज्ञानिक ने यह दावा किया है उन्होंने धरती से परे जीवन के होने के पुख्ता सबूत मिले हैं. प्रोफेसर चंद्र विक्रमसिंह नाम के ब्रितानी वैज्ञानिक का कहना है दिसंबर में श्री लंका में एक उल्का पिंड का टुकड़ा गिरा था जिसमें एल्गी (शैवाल) के छोटे-छोटे जीवाश्म चिपके हुए थे. यह दिखने में बिल्कुल समुद्री शैवाल (सीवीड) के तरह थे. प्रोफेसर चंद्र का कहना है कि यह साफ प्रमाणित करता है कि इस ब्रह्मांड मेंहम अकेले नहीं हैं.

Read – बाप रे, यह क्या अजूबा है !!

द मिरर में प्रकाशित इस रिपोर्ट के अनुसार प्रोफेसर चंद्र किक्रमसिंह  का दावा है कि उन्हें जो सबूत मिले हैं उनके अनुसार यह कहना गलत नहीं है कि अन्य ग्रहों पर भी जीवन संभव ही नहीं बल्कि मौजूद है.


जलते हुए उल्का पिंड के कई टुकड़े जब धरती पर गिरे तो उनमें से लगभग 2 इंच चौड़ा हिस्सा श्रीलंका के शहर पोलोन्नारुवा में गिरा. जब गांववालों ने उस टुकड़े को देखा उसमें तब भी धुआं निकल रहा था.


ब्रिटिश प्रयोगशाला के अंदर जब इस टुकड़े का परिक्षण किया गया तब उसमें जीवाश्म के चिपके होने की बात सामने आई. इतना ही नहीं परिक्षण में यह भी सामने आया कि आज से लाखों साल पहले डायनासोर के जीवाश्मों में से जो सूक्ष्म जीव मिले थे वैसे ही सूक्ष्म जीव उल्का पिंड के टुकड़े के ऊपर पाए गए.


Read - Real Horror Story in Hindi – रात के अंधेरे में भटकती रूहों की दर्दनाक कहानी

प्रोफेसर चंद्र विक्रमसिंह की यह खोज और दावा एक बार फिर से एलियन के अस्तित्व के प्रति जिज्ञासा उत्पन्न करने का काम कर रहे हैं. वैसे तो इनसे पहले भी कई सर्वेक्षण और अध्ययन अन्य ग्रहों पर जीवन के होने जैसी बातों पर सहमति और संदेह रख चुके हैं लेकिन इस अध्ययन ने एक बारफिर धरती के परे भी जीवन होने जैसी बात को आधार दे दी है.

Read

कोई कहता है चाउमीन मत खाओ तो कोई कहता है भाई बना लो

मरने के बाद भी नहीं मिटी उसकी प्रेम कहानी !!

जरूरी नहीं जो दिखाई ना दे वो है ही नहीं

Tags: aliens, alien mystery, mystery of aliens, aliens on earth, एलियन का रहस्य, एलियन, रहस्यमय एलियन,यूएफओ





Tags:                 

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (4 votes, average: 3.50 out of 5)
Loading ... Loading ...

2 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

BOBBY के द्वारा
February 6, 2013

mysterious ….

SONU के द्वारा
February 6, 2013

एलियन जैसा कुछ नहीं होता


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran