blogid : 7629 postid : 1212

कब्रों से निकालकर आखिर क्यों सजाया जाता है शवों को !!

Posted On: 29 Oct, 2012 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

torajaमरने के बाद दफनाने या दाह संस्कार करना तो सुना था लेकिन क्या आप जानते हैं जिस तरह मिस्र में मृत शरीर को सहेज कर रखे जाने की प्रथा थी वैसी ही एक प्रथा इंडोनेशिया में भी मशहूर है. फर्क है तो बस इतना कि इस प्रथा को मानने वाले लोग कब्रों को खोदकर अपने पूर्वजों की कब्रों को बाहर निकालते हैं और फिर उन्हें अच्छे और महंगे कपड़े पहनाकर तैयार करते हैं.


सुनने में भले ही आपको यह प्रथा बेहद अजीब लगे लेकिन यह बात बिल्कुल सच है कि इंडोनेशिया के दक्षिणी सुलेवासी प्रांत में स्थित तोराजा जिले में एक बेहद हैरान कर देने वाली प्रथा चलन में हैं जिसका नाम है मा-नेने. इस प्रथा के अंतर्गत लोग अपने पूर्वजों की कब्रों को खोदते हैं और उन्हें नए कपड़े पहनाकर तैयार करते हैं. इतना ही नहीं वे अपने परिजन के शव की साफ-सफाई भी करते हैं.


Read – पैसे की नदियां बहती हैं यहां !!


इस प्रथा को हर तीन वर्ष के अंतराल में मनाया जाता है. जिसमें लोग अपने पूर्वजों के सड़ चुके शवों को बाहर निकालते हैं, उन्हें तैयार करते हैं और फिर उस शव को पूरे गांव में घुमाते हैं और फिर दोबारा उन्हें सही ढंग से लपेट कर ताबूत में लिटा देते हैं.


अब आप निश्चित तौर पर इस प्रथा के पीछे क्या कारण हो सकता है इस बारे में सोच रहे होंगे. तो हम आपको बता दे कि तोराजा जिले के लोग इस प्रथा को इसीलिए मनाते हैं ताकि उन्हें अपने पूर्वजों के साथ होने का अहसास हो सके.


Read- आखिर क्यों उसे मरने के बाद भी सुकून नहीं मिला !!


इस लेख में हम आपको ना सिर्फ मा-नेने नाम की इस अनोखी प्रथा के बारे में बता रहे हैं बल्कि कुछ ऐसी तस्वीरें भी दिखा रहे हैं जो आपकी हैरानी और जिज्ञासा को और अधिक बढ़ा देंगे:


toraja इस तस्वीर में इंडोनेशिया के तोराजा जिले के लोग मा-नेने नाम की इस प्रथा को मनाने के बाद अपने पूर्वज के शरीर को गांव में घुमा रहे हैं.


Read – काले जादू के साये में बीती वो काली खौफनाक रात !!


deadयह प्रथा हर तीन साल के अंतराल के बाद मनाई जाती हैं यब तक जाहिर है शव की हालत खराब हो चुकी होती है.

Tags : Real ghost stories, life sfterdeath, real horror stories, spirits and ghosts, horror stories, difference horror thriller,




Tags:             

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (5 votes, average: 4.60 out of 5)
Loading ... Loading ...

4 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Armaan hussain के द्वारा
August 9, 2014

i ts depend ki log kya sochte hain appne purvajo ke bare mai yee sabhyata misr se hi start hui hai yee maine kuch dino phele hi padha tha aaj fb pr dekha i think hame yee rokna chaiye

amilal के द्वारा
August 8, 2014

राम राम  

archana के द्वारा
December 28, 2012

ओह माय गॉड यह तो बड़ा डेंजर रिवाज है


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran