blogid : 7629 postid : 1198

क्या अब भी आप यही कहेंगे आत्माएं नहीं होतीं - Real Horror Story

Posted On: 16 Oct, 2012 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

एक हकीकत

आज मैं आपको एक ऐसी घटना के बारे में बताना चाहता हूं जिसने मुझे और मेरी जिंदगी को पूरी तरह बदल कर रख दिया. मुझे सोचने के लिए मजबूर कर दिया कि क्या उस रात मैंने जो देखा था वो सच था या सिर्फ मेरा वहम…


hauntedसुनने या पढ़ने वाले भले ही इसे एक मनगढ़ंत कहानी मान लें लेकिन वो कहते हैं ना जिस पर बीतती है वही उस दर्द को समझ सकता है. ऐसा ही कुछ मुझ पर भी बीता जिसे मैं आप सभी को सुनाना चाहता हूं. बात आज से लगभग 3 साल पहले की है जब मैं अपने करीबी दोस्त की शादी में शामिल होने उसके गांव गया था. हम दोनों दिल्ली की एक कंपनी में साथ काम करते थे लेकिन उसका परिवार राजस्थान के एक छोटे से गांव से संबंध रखता था. उसके विवाह से जुड़े सभी आयोजन वहीं गांव में ही होने थे इसीलिए उसकी शादी से तीन दिन पहले ही मैं वहां जाने के लिए निकल पड़ा.


Read – क्या अब भी आप यही कहेंगे कि आत्माएं नहीं होती !!

जयपुर एयरपोर्ट पर उतरने के बाद मैंने उसके गांव पहुंचने के लिए एक टैक्सी की. मेरे दोस्त साहिल का गांव जयपुर से काफी दूर था. ड्राइवर ने पहले ही कहा था कि पूरे 24 घंटे में ही हम उस गांव में पहुंच पाएंगे. सफर लंबा था इसीलिए टैक्सी ड्राइवर से बातें भी शुरू हो गईं. बातें करते-करते उसने गांव-देहातों में फैले भूत-प्रेतों के किस्सों का जिक्र छेड़ दिया. ड्राइवर का कहना था कि जिस गांव में मैं जा रहा हूं वहां तो डायनों का आना बहुत आम है. उसने मुझे एक नहीं ना जाने कितने ही किस्से सुना दिए उस गांव और डायन से जुड़े हुए.


अब आप तो जानते ही हैं कि दिल्ली जैसे महानगर में रहने वाले युवा कहां इन आत्माओं और डायनों की बात पर यकीन करते हैं. मेरे जैसे अधिकांश लोगों के लिए यह सब मनोरंजन का एक जरिया हो सकता है इससे ज्यादा कुछ नहीं लेकिन शायद वह आखिरी बार था जब मैंने इन सब काली शक्तियों को बस एक मजाक के रूप में लिया था क्योंकि उसके बाद तो जैसे मैं इन पर ना सिर्फ विश्वास करने लगा बल्कि हर समय इनकी उपस्थिति का अहसास भी करने लगा.

Read- इसे सिर्फ कहानी समझने की भूल मत करना


ड्राइवर का कहना था कि सुबह आठ बजे तक हम अपनी मंजिल पर पहुंच जाएंगे. रात 10 बजे के आसपास हमने एक ढाबे पर खाना खाया और फिर सफर की थकान की वजह से आंख लग गई. अचानक हमारी गाड़ी खराब हो गई और वो भी ऐसी जगह जहां से कुछ भी मदद मिलना लगभग नामुमकिन था. मुझे समझ नहीं आ रहा था कि क्या किया जाए. सुबह होने का इंतजार भी नहीं कर सकते थे और आसपास कोई ठीक जगह भी नहीं थी. ड्राइवर का कहना था कि 2-3 किलोमीटर पर एक ढाबा है आप वहां पहुंच जाओ मैं गाड़ी ठीक करवाकर आ जाऊंगा. मैंने उसकी बात मान ली और पैदल चलने लगा. बहुत चलना था इसीलिए कानों में इयरफोन लगा लिया और सोचा टाइम पास हो जाएगा.


कुछ दूर चलते ही मुझे ऐसा लगा जैसे मेरे साथ कोई चल रहा है. बड़ी तेज महक सी आई और बहुत देर तक अपने साथ किसी और के होने का अहसास हुआ. पहले लगा कि जैसे यह मेरा वहम है लेकिन धीरे-धीरे वो वहम हकीकत या यूं कहें भयानक हकीकत की शक्ल लेने लगा. पहले मुझे केवल अहसास हो रहा था कि कोई मेरे साथ-साथ चल रहा है लेकिन धीरे-धीरे किसी की शारीरिक आकृति मुझसे कुछ कदम दूरी पर दिखाई देने लगी.


वह एक सुंदर लड़की थी, उसने मुझसे पूछा इतनी रात को अकेले मैं कहा जा रहा हूं तो मैंने उसे अपनी कहानी बता दी कि कैसे गाड़ी खराब हुई और मैं पैदल चलने के लिए मजबूर हुआ.


मैंने भी उससे यही सवाल किया कि वह इतनी रात को यहां क्या कर रही है. उसने मुझे बोला कि वह अकसर इस रास्ते पर आती-जाती है. इससे पहले मैं उससे कुछ और पूछता उसने मुझे बोला कि आपके दोस्त की शादी तो कल है ना आप कैसे पहुंच पाओगे?


उसका यह सवाल सुनकर मैं हैरान रह गया कि उसे कैसे पता!! मैंने पूछा आपको मेरे दोस्त की शादी के बारे में कैसे पता तो उसने मुझे बताया कि ऐसे ही. मैं चुप हो गया. उसने अपना नाम कविता बताया था. फिर वह कोई अजीब सा गाना गुनगुनाने लगी और मैं चुपचाप उसके साथ चलता रहा. आगे बढ़ा तो सामने एक बड़ा और घना पेड़ दिखाई दिया. मैं उसकी तस्वीर उतारने लगा तो उस लड़की ने मुझे ऐसा ना करने को बोला. मैंने पूछा क्यों? तो उसने बोला रात के समय तस्वीर नहीं उतारते. मैंने अपना कैमरा अंदर रख लिया. मेरी नजर अचानक मेरी नजर पेड़ से थोड़ी दूर पर खड़ी तीन औरतों पर गई. तीनों औरतें धीरे-धीरे मेरे पास आने लगी. जैसे-जैसे वो पास आती गईं उनका चेहरा नजर आने लगा जो बहुत डरावना था. वह मुझे अपने पास बुलाने लगीं लेकिन कविता ने उनका इशारा देख लिया और मुझे तेज-तेज चलने के लिए बोला. मैं चलने क्या भागने लगा. थोड़ी दूर आते ही वह औरतें गायब हो गईं और मैंने कविता ने पूछा कि वो कौन थीं? उसने बताया कि वह इस गांव में पिछले कई सौ सालों से घूम रही हैं गांव के लोग उन्हें बुरी आत्माएं कहते हैं. आपको उनसे बचाने के लिए ही मैं आपके साथ-साथ आई हूं. मैंने पूछा तुम कैसे बचा सकती हो? उसने फिर कोई जवाब नहीं दिया.


Read – जरूरी नहीं जो दिखाई ना दे वो है ही नहीं


हम बहुत दूर निकल आए थे, कविता ने कहा कि ढाबा आने वाला है और रास्ता भी सुरक्षित है, अब मुझे चलना चाहिए. मैंने कहा तुम आगे तक नहीं जाओगी. उसने कहा मेरी मंजिल तो यही है. जाते-जाते उसने मुझे बस एक बात बोली कि हर आत्मा बुरी नहीं होती साहब !!


उसकी बात का मतलब समझते मुझे बिलकुल देर नहीं लगी और मैं समझ गया कि वह एक भली आत्मा थी जो मुझे बुरी शक्तियों से बचाने के लिए मेरे साथ-साथ आई थी…. !!!

Read – क्या आपको भी परेशान करती हैं पिछले जन्म की यादें !!


Tags : black magic, black magic in history, black magic history and origin, black magic and love, black magic and love spells, black magic and love story, black magic love spells that work, horror stories and black magic, black magic real stories




Tags:                       

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (34 votes, average: 4.26 out of 5)
Loading ... Loading ...

18 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Krishan Veer के द्वारा
February 3, 2015

Educational Website Click This Link – http://www.onlineeducationalsite.com Hindi Quotes,Hindi Articles,अनमोल वचन,Hindi Thoughts,Today’s History In Hindi,G.K in Hindi And Daily Currernt Affairs in Hindi.

laxminarayan के द्वारा
July 5, 2014

ये तो एक फिल्म की स्टोरी है

shailja dewangan के द्वारा
May 24, 2014

believe hi ni hota aisa kuch ho b skta ha…………….. God knows..

arjun के द्वारा
April 14, 2014

Bkwaas or fak story raat me paid ka photo kheechna jhoot.or upar se inke paas ek ladki agayi or ye bhage nhi fak or teen churail mil gayi jinhone kuch nhi kiya fak or kul milake bkwaas story

SATVIK के द्वारा
April 13, 2014

मस्त और बहुत डरावनी! सॉलिड स्टोरी है.

SHORTI के द्वारा
March 1, 2014

All sisters any problims solve plz call to this man and solve any problims.bawa abbas sahib.contict all us +923064646499.this is a good persion and a nice man.

Jainendra Raj के द्वारा
January 22, 2014

यार ये मस्त नहीं है ये तो जस्ट जोके लग रहा है कहो तो मै ही सुना देता हु .

Muskan Jha के द्वारा
December 31, 2013

I also believe in ghosts . I also have some stories plz some 1 tell me how 2 post on this site. Any way this 1 was also very nyc!!

    Vishal के द्वारा
    June 5, 2014

    सच में मकान कुछ बात करनी है 7742197602

Sonu के द्वारा
November 8, 2013

Are bhai us raste ka pata dedo mere ko bhi us bhali aatma se milna hai.

shiv के द्वारा
September 9, 2013

real hai yaar, asaa kus mere sath bhik huya tha,

    Muskan Jha के द्वारा
    December 31, 2013

    toh aap bhi us story ko bhi publish kar digye.

mahesh के द्वारा
August 2, 2013

सही है रै……..

sumit bansal9015450448 के द्वारा
July 18, 2013

mujhe nahi lagta ye real story hai….

simran के द्वारा
March 19, 2013

nice stories i want more

archana के द्वारा
December 28, 2012

very nice story

    Vishal के द्वारा
    June 5, 2014

    7742197602

pitamberthakwani के द्वारा
October 16, 2012

जनाब आप हमें अपना पता और मोबाईल नम्बर दे सके तो आपसे जरूर मिलकर बात करूंगा! मै खुद भी डेल्ही में रहता हूँ! सादर!


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran