blogid : 7629 postid : 1092

निराश होने से क्या मिलता है !!

Posted On: 31 Jul, 2012 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

जिंदगी जीने का नाम है, हमारे और आपके लिए बेशक यह सिर्फ एक कहावत है लेकिन शंघाई के लोग इस कहावत को साकार रूप देने की पूरी-पूरी कोशिश कर रहे हैं. जरा सोचिए अगर आपके घर का कोई महत्वपूर्ण सदस्य कहीं खो जाए और आपको उसकी कोई खबर ही ना रहे तो आपका क्या हाल होगा? निश्चित रूप से आप गम और दुखों के सागर में डूब खुद को असहाय महसूस करने लगेंगे. अपने प्रियजन की याद आपको ना तो रात को सोने देगी और ना ही आपको कहीं भी आराम मिल पाएगा. आपका पूरा जीवन बस उस व्यक्ति की तलाश में ही गुजर जाएगा. लेकिन ऐसे हालातों में शंघाई के लोग ऐसे अपवाद बनकर सामने आ रहे हैं जो शायद हर उस व्यक्ति के लिए एक प्रेरणास्त्रोत बन सकते हैं जो अपनों की तलाश करते-करते हार गए हैं और आगे भी उनके मिलने जैसी उम्मीद को झुठला बैठे हैं.



sadand happyशंघाई में रहने वाले एक व्यक्ति का दस वर्षीय बेटा कहीं खो गया है जिसकी तलाश वह आज भी बदस्तूर जारी रखे हुए हैं. लेकिन अपने बच्चे की तलाश करते हुए ना तो वह किसी प्रकार से निराश हुए हैं और ना ही नाउम्मीद. लेकिन इन सबके बीच वह कभी भी अपने बेटे का जन्मदिन मनाना नहीं भूलते. भले ही आज उनका बेटा उनके साथ नहीं है लेकिन उन्हें पूरी उम्मीद है कि एक ना एक दिन वह वापस जरूर आएगा इसीलिए अपने बेटे का जन्मदिन उसी तरह मनाते हैं जैसा उसके होने पर मनाते थे. उसके लिए तोहफे लाते हैं और मेहमानों को भी न्यौता देते हैं. अपने बेटे की यादों को अपने अंदर समेटे यह परिवार, पार्टी में हर उस शख्स को आमंत्रित करता है जिनकी संतान उनसे जुदा है लेकिन वह उसके मिलने को लेकर नाउम्मीद नहीं है.


सबसे महत्वपूर्ण बात तो यह है कि यह सभी परिवार एक-दूसरे के बच्चों को ढूंढ़ने में मिलकर मदद करते हैं. इसी का परिणाम है कि कई परिवारों को उनके बच्चे मिल भी चुके हैं.




Tags:                                                 

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 4.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

1 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

pitamberthakwani के द्वारा
August 14, 2012

क्या ऐसे में वहां की सरकार किकोई एजेंसी नहीं है जो इस काममे मदद करे?


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran