blogid : 7629 postid : 731

गांव की लड़की और ठाठ नेताओं वाले !!

Posted On: 1 Apr, 2012 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

rajasthan sarpanchएक समय था जब महिलाओं को घर की चारदीवारी में कैद कर रखा जाता था. अपने परिवार वालों से इतर उनका किसी अन्य पुरुष से बात करना तक वर्जित था. आत्म निर्भरता और शिक्षा की बात तो छोड़ ही दीजिए हालात इतने खराब थे कि कोई भी महिला बिना किसी पुरुष के साथ के अपने घर से बाहर तक नहीं निकल सकती थी. लेकिन अब परिस्थितियां पूरी तरह महिलाओं के पक्ष में दिखाई दे रही हैं. अब महिलाएं पुरुषों के ही समान पढ़ती भी हैं और उल्लेखनीय तौर पर सामाजिक के साथ-साथ आर्थिक तौर पर भी आत्मनिर्भर हैं.


अब राजस्थान की एक युवती का ही उदाहरण ले लीजिए. 23 साल की राखी पालीवाल राजस्थान के राजसमंद जिले में स्थित छोटे से गांव उपली ओडन की उपसरपंच हैं. वह जो भी निर्णय करती हैं पूरी तरह स्वतंत्र रहकर करती हैं, उन पर ना तो परिवार के किसी सदस्य का दबाव है और ना ही कोई बाहरी पुरुष उनके कार्यों में हस्तक्षेप करता है.


अब कुत्ते लिखेंगे गानों की धुन !!


एनएसबी कॉलेज (नाथद्वारा) की फाइनल ईयर की स्टूडेंट राखी को देखकर कोई भी यह नहीं कह सकता कि महिलाएं केवल गृहस्थी संभालने के लिए ही बनी हैं. कम उम्र में ही राखी ने अपने गांव को उन्नत करने का बीड़ा उठा लिया है. वह सुबह पांच बजे उठती हैं और बाइक पर बैठकर पूरे गांव का चक्कर लगाती हैं. उन्हें जो भी मिलता है उसके हाल-चाल पूछना, अगर उन्हें कोई समस्या है तो उसे सुलझाना राखी अपना फर्ज समझती हैं.


राखी उन लोगों को फटकारना भी नहीं भूलतीं जो सड़क पर कचरा डालते हैं. ग्रामीण इलाकों के अधिकांश घरों में शौचालय की सुविधा नहीं होती इसीलिए लोगों को बाहर जाना पड़ता है. राखी लोगों को घर में ही शौचालय बनाने के लिए प्रेरित भी करती हैं. उसका सपना है कि एक दिन वह राजस्थान विधानसभा में बैठकर महिलाओं का प्रतिनिधित्व करें.


वह गांव की महिलाओं को समझाती हैं कि वह अपनी बेटी और बेटे में अंतर ना किया करें. बेटियों को भी स्वतंत्र रखने की कोशिश करें, उन पर पाबंदियों का वो बोझा ना लाद दें कि वे दबकर रह जाएं.


राखी अपनी पढ़ाई और उपसरपंच के कार्यभार को बखूबी निभा रही हैं. उनका कहना है कि आज भी दूर-दराज की महिला और लड़कियों की भावनाओं को दबाया जाता है, इसीलिए वह चाहती हैं कि महिलाओं के अस्तित्व को सम्मानजनक तरीके से स्वीकार किया जाए. कॉलेज में अपने दोस्तों के बीच ‘नेताजी’ नाम से मशहूर राखी कॉलेज छात्रसंघ में सचिव का चुनाव भी लड़ चुकी हैं.


रिकॉर्ड बनाने का लालच क्या क्या करवाता है इंसान से


Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

1 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

namaskar के द्वारा
April 1, 2012

राखीजी को ढेर सारी बधाइयां और शुभकामनाएं।


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran