blogid : 7629 postid : 561

अब ऑटो ड्राइवर बनने के लिए पूरा करना होगा 3 वर्ष डिग्री कोर्स!!

Posted On: 10 Mar, 2012 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

driving schoolदिनोंदिन तरक्की करते भारत देश में आज भी बेरोजगारी की दर को नियंत्रित नहीं किया जा सका है. यही वजह है कि लोग पढ़ाई तो पूरी कर लेते हैं लेकिन जब जॉब की बात आती है तो उन्हें केवल निराशा ही हाथ लगती है. हमारे देश में कई ऐसे प्रतिभावान बेरोजगार हैं जो हाथ में स्नातक, स्नातकोत्तर या इससे भी उच्च शिक्षा की डिग्री लिए ऑटो या टैक्सी चलाने लगते हैं. खैर यहां इस बात का उल्लेख करना बहुत ज्यादा उपयुक्त नहीं है क्योंकि शायद हम सभी पढ़े-लिखे बेरोजगार व्यक्तियों की परिस्थितियों को जानते और समझते हैं. लेकिन अब ऐसी व्यवस्था की गई है जिसके अनुसार वे लोग जो ऑटो या टैक्सी चलाकर अपने और अपनी परिवार की जरूरतों को पूरा करने की कोशिश करते हैं, उन्हें भी डिग्री और डिप्लोमा प्राप्त करना होगा.


इस डिग्री की शुरुआत नासिक (महाराष्ट्र) की यशवंतराव चह्वाण महाराष्ट्र खुला विश्वविद्यालय (वाइसीएमओयू) द्वारा की गई है. कुछ ही दिनों पहले इस डिग्री कोर्स के पहले बैच का उद्घाटन फिल्म अभिनेता कादर खान ने किया.


अब कादर खान को इस कोर्स का उद्घाटन करने का जिम्मा क्यों सौंपा गया, इसके पीछे का कारण भी बड़ा अजीब है. विश्वविद्यालय प्रबंधन ने ऐसा इसीलिए किया क्योंकि कादर खान ने अपने फिल्मी कॅरियर में काफी बार एक टैक्सी और बस ड्राइवर की भूमिका निभाई है.


इस कोर्स और उद्घाटन की विशेषताएं यहीं समाप्त नहीं होतीं क्योंकि इसकी वैश्विक महत्ता को देखते हुए कॉमनवेल्थ ऑफ लर्निग के अध्यक्ष सर जॉन डेनियल खासतौर से इस समारोह में भाग लेने के लिए कनाडा से मुंबई आए थे. वह विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. आर. कृष्णकुमार के साथ इस डिग्री कोर्स में काम आने वाली शिक्षण सामग्री का उद्घाटन करेंगे.


ऑटो और टैक्सी चलाने के इच्छुक इस डिग्री कोर्स में प्रवेश लेने वाले विद्यार्थियों को सीडी, एफ एम और अन्य रेडियो कार्यक्रमों के जरिए शिक्षित करने की योजना बनाई गई है. विश्वविद्यालय के प्रवक्ता श्रीनिवास बेलसरे के का कहना है कि इस कोर्स से लगभग 2 लाख ड्राइवर लाभ उठा सकते हैं.


सबसे पहले इस कोर्स के लिए ऑटो और टैक्सी चालकों को प्रशिक्षण दिया जाएगा, उसके बाद टृक और बस चालकों को इसमें दाखिला दिया जाएगा. संस्थान का उद्देश्य ऐसे लोगों को डिग्री उपलब्ध करवाकर दक्ष बनाना है जो किसी वजह से बीच में ही अपनी पढ़ाई छोड़ चुके थे.


बेलसरे का कहना है कि बीए रोड ट्रांसपोर्टेशन नामक इस डिग्री कोर्स के पहले वर्ष में विद्यार्थियों को डिप्लोमा कोर्स का प्रमाणपत्र प्रदान किया जाएगा, दूसरे वर्ष के बाद एडवांस डिप्लोमा प्रमाणपत्र और अंत में तीसरे वर्ष की समाप्ति पर डिग्री प्रदान की जाएगी.

Read Hindi News




Tags:                                   

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

2 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

hk के द्वारा
January 21, 2015

एक महिला घर पर अकेली थी, तभी दरवाजे पर दस्तक हुई.! उसने जैसे ही दरवाजा खोला तो एक अनजान आदमी खड़ा था.! देखते ही बोला: अरे आप तो बहुत ही खूबसूरत हैं..! महिला घबरा कर दरवाजा बंद कर देती है.! अगले तीन चार दिन तक ऐसा ही चलता रहता है, तो सभ्य महिला ने तँग आकर यह बात अपने पति को बताई..! पति बोला: तुम चिंता मत करो, आज जब वो आएगा तो मैं घर पर ही रहुंगा और दरवाजे के पीछे खड़ा रहूँगा.! तुम उससे बोल देना, “हाँ मैं सुन्दर हूँ, तुम्हे क्या.? “फिर मैं उसको मज़ा चखाता हूँ.!” . . दूसरे दिन जैसे ही वो आदमी आता है, पति दरवाजे के पीछे छिपा रहता है ! आदमी बोलता है: अरे आप तो बेहद खूबसूरत हैं.! महिला: हाँ मैं खूबसूरत हूँ, लेकिन तुम चार दिन से क्या चाह रहे हो.? आदमी विनम्रता के साथ हाथ जोड़ कर बोला: “बहन जी, यही विश्वास और अहसास आप अपने पति के अंदर जागृत कीजिये, ताकि वो मेरी बीबी का पीछा करना छोड़ दे..!

gourav के द्वारा
March 10, 2012

सही नीति


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran